मेरठ- मरीज को अस्पताल में लगा दिया पानी का इंजेक्शन, हो गई मौत

covid hospital in lucknow
covid hospital in lucknow

नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश के मेरठ में कोरोनावायरस संक्रमण के गंभीर मरीजों के जीवनरक्षक रेमडेसिविर इंजेक्शनों की कालाबाजारी का पर्दाफाश करते हुए पुलिस ने 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने बताया कि गुरूवार को एक मरीज की मौत हो गई थी. उसको रेमडेसिविर की जगह शीशी में पानी भरकर लगा दिया था. इस कारण से उसे रेमडेसिविर का इंजेक्शन नहीं मिल पाने से मरीज की गुरूवार को मौत हो गई।

कोरोना कहर : बीते 24 घंटों में 3,32,730 नए मामले, 2 हजार से अधिक लोगों की मौत

मरीज को लगाया पानी का इंजेक्‍शन

बता दें की सुभारती मेडिकल कालेज के कोविड वार्ड स्थित सेकेंड फ्लोर पर गाजियाबाद के कविनगर निवासी शोभित जैन भर्ती थे. शोभित जैन को रेमडेसिविर का इंजेक्शन लगाने की आवश्यकता थी. जिसे लेकर पहले तो परिवार ने कड़ी मशक्कत की, बाद में जब मिला तो तुरंत ही कर्मचारियों को दे दिया।

meerut news
meerut news

जिसके बाद से दो कर्मचारियों ने बड़ा हेरफेर करते हुए रेमडेसिविर की जगह डिस्टल वाटर शीशी में भरकर लगा दिया और रेमडेसिविर इंजेक्शन को बचा लिया. जिसका नतीजा यह हुआ की मरीज की जान नहीं बच सकी और गुरूवार को शोभित जैन की की सांसे थम गई।

कोरोना में भी ट्रेन में कर सकेंगे सफर, रेलवे ने चलाई कई ट्रेनें, लोगों को मिलेगी सुविधा

मेरठ में कालाबाजारी नेटवर्क

पुलिस ने बताया कि इस मामले में कुल आठ लोगों को पकड़ लिया गया है. इसमें छह गार्ड समेत दो कर्मचारी हैं. वहीं सुभारती ग्रुप के ट्रस्टी अतुल भटनागर व उनके बेटे समेत कुल दस लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया है. पूछताछ में दो कर्मचारियों ने डिस्टिल वाटर लगाने की बात कबूली है.एसएसपी अजय साहनी ने बताया कि सुभारती में रेमडिसिवर की कालाबाजारी में बड़ा नेटवर्क काम कर रहा था. उसके बाद इंजेक्शन को बाहर ब्लैक में 25 हजार का बेचा जा रहा था. इसी के चलते एक मरीज शोभित जैन की मौत भी हो चुकी है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *