अमेरिका की चीन के खिलाफ बड़ी कार्रवाई, ब्लैकलिस्ट की दर्जनों कम्पनी

US Blacklists Dozens Of Chinese Firms
US Blacklists Dozens Of Chinese Firms

नई दिल्ली: अमेरिका ने चीन पर कड़ी कार्रवाई करते हुए दर्जनों चीनी कंपनियों को ट्रेड ब्लैकलिस्ट कर दिया है. अमेरिका ने शुक्रवार को बताया कि इसमें चीन की टॉप चिपमेकर कंपनी सेमीकंडक्टर मैन्युफैक्चरिंग इंटरनेशनल कॉर्प (SMIC) और चीनी ड्रोन निर्माता ‘एचजेड डीजेआई टेक्नोलॉजी लिमिटेड’ भी शामिल हैं।

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपना पद छोड़ने से पहले चीन पर कड़ा रुख अख्तियार करने वाले राष्ट्रपति के तौर पर अपनी विरासत को छोड़ना चाहते हैं. माना जा रहा है कि इसी कारण ट्रंप प्रशासन ने दर्जनों चीनी कंपनियों को व्यापार की काली सूची में डाल दिया है।

US Blacklists Dozens Of Chinese Firms
US Blacklists Dozens Of Chinese Firms

क्यों उठाया गया ये कदम?

अमेरिकी वाणिज्य विभाग ने शुक्रवार को इस फैसले की पुष्टि की और कहा, एसएमआईसी चीन के सैन्य-नागरिक संलयन सिद्धांत से उपजा है. चीनी सैन्य औद्योगिक परिसर में एसएमआईसी और कुछ गुप्त कंपनियों के बीच गतिविधियों के प्रमाण मिले हैं. इस कारण यह कदम उठाया गया है।

वाणिज्य विभाग के एक अधिकारी ने कहा, दुनिया की सबसे बड़ी ड्रोन निर्माता कंपनी डीजेआई को भी इस सूची में शामिल किया गया है. जबकि, डीजेआई ने इस संबंध में तुरंत कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। वाणिज्य मंत्री विल्बर रॉस ने कहा, हम अमेरिकी प्रौद्योगिकी की अनुमति प्रतिकूल सैन्य सामग्री के निर्माण में मदद के लिए नहीं देंगे. उन्होंने कहा कि इस वजह से एसएमआईसी को अमेरिकी सरकार की काली सूची में डाला गया है।

US Blacklists Dozens Of Chinese Firms
US Blacklists Dozens Of Chinese Firms

चीनी कंपनियों के अमेरिकी उत्पीड़न का सबूत

एशिया सोसाइटी को संबोधित करते हुए चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने अमेरिका की काली सूची का उल्लेख किया और वाशिंगटन से कहा कि वह चीनी कंपनियों के मनमाने दमन को रोके।

वहीं, चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा, ब्लैकलिस्टिंग चीनी कंपनियों के अमेरिकी उत्पीड़न का सबूत है और बीजिंग अपने अधिकारों की रक्षा के लिए आवश्यक उपाय करना जारी रखेगा. मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने कहा, हम अमेरिका से आग्रह करते हैं कि वह विदेशी कंपनियों के खिलाफ अपने अनुचित रवैये को रोके।

 

Leave a comment

Your email address will not be published.