उत्तरप्रदेश पंचायत चुनाव- जल्दी पता चल जाएगा इस तारीख को कौन सी ग्राम पंचायत है आरक्षित

UP Panchayat
उत्तरप्रदेश पंचायत चुनाव

नई दिल्ली: UP Panchayat : उत्तरप्रदेश पंचायत चुनाव में प्रधानों, ग्राम पंचायत, क्षेत्र पंचायत व जिला पंचायतों में आरक्षण की स्थिति को लेकर तैयारी चल रही है। प्रशासन दो मार्च को इसकी सूची जारी करेगा। उसके बाद इस आरक्षण पर लोगों की आपत्तियां मांगी जाएगी। इन आपत्तियों को निस्तारण के लिए चार अधिकारियों की समिति का गठन कर दिया गया है।

UP Panchayat जिला पंचायत राज अधिकारी को सदस्यता

UP Panchayat : बता दें जिलाधिकारी के अध्यक्षता में बनी इस समिति में मुख्य विकास अधिकारी व अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत को सदस्य के रूप में चुना गया है। वहीं जिला पंचायत राज अधिकारी को सदस्य सचिव बनाया गया है। आरक्षण को लेकर लोगों से चार से आठ मार्च तक का तिथि लोगों के आपत्तियों के लिए तय की गई है।

UP Panchayat
उत्तरप्रदेश पंचायत चुनाव

साफ हो गई उत्तरप्रदेश की जिला पंचायतों में आरक्षण नीति

जिले को 12 जोन में बांटा

आपको बता दे महराजगंज जिले को 12 जोन व 102 सेक्टर में बांटा गया है। डीएम व जिला निर्वाचन अधिकारी डॉ. उज्ज्वल कुमार ने सभी जोन व सेक्टर मजिस्ट्रेटों की तैनाती कर दी है। वहीं 12 सहायक रिटर्निंग अधिकारियों की भी ड्यूटी लगा दी है। चुनाव आयोग से निर्वाचन की अधिसूचना जारी होते ही अधिकारी एक्शन में आ जाएंगे। जिले में 882 ग्राम पंचायतों में प्रधान पद के 882, ग्राम पंचायत सदस्य के 11280, क्षेत्र पंचायत सदस्य के 1166 व जिला पंचायत के 47 पदों के लिए चुनाव होने हैं। मतदान कराने के लिए 3029 मतदान स्थल बनाए गए हैं। ग्राम पंचायत के सभी बूथों को 12 जोन व 102 सेक्टर में बाटा गया है।

UP Panchayat
उत्तरप्रदेश पंचायत चुनाव

UP : विधानसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी जॉइन रहे नेता, बढ़ रहा है कुनबा

एक ही दिन हो सकता है पूरे जिले में चुनाव

चुनाव कराने को लेकर निर्वाचन आयोग 24 फरवरी को जिलाधिकारी के साथ वीडियो कांफ्रेंस कर तैयारियों की समीक्षा करेंगे। इसमें एक ही दिन पूरे जिले में चारों पदों के लिए चुनाव कराने को लेकर अधिकारियों से विचार-विमर्श किया जा सकता है। यदि एक ही दिन में पूरे जिले में सभी पदों के लिए चुनाव हुआ तो यह प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती होगी। इसमें करीब 20 हजार कार्मिकों की जरूरत पड़ेगी। जिले में करीब 14 हजार की कार्मिक हैं। करीब छह हजार कार्मिकों को बाहर से बुलाना पड़ सकता है

क्या Rakesh Tikait भड़का रहे है किसानों को ?

Leave a comment

Your email address will not be published.