UP Oxygen Crisis: ऑक्सीजन टैंकर लेकर रवाना हुई ऑक्सीजन एक्सप्रेस

PM Cares Fund
Oxygen Crisis

नई दिल्ली: देश कोरोना वायरस के भयावह दौर से गुजर रहा है, देश के अलग-अलग राज्यों से खबर आ रही है जहां ऑक्सीजन की किल्लत(UP Oxygen Crisis) सामने आ रही है। इस ऑक्सीजन की संकट से लड़ने के लिए उत्तर प्रदेश के सरकारी के साथ प्राइवेट अस्पतालों में ऑक्सीजन की किल्लत अब दूर होने वाली है। बोकारो के स्टील प्लांट से ऑक्सीजन के टैंकर लेकर दोपहर 2 बजे ऑक्सीजन एक्सप्रेस(Oxygen Express) आज रवाना हो गई है। इसके लिए रेलवे ने ग्रीन कॉरिडोर बनाया है।

UP Oxygen Crisis: ऑक्सीजन एक्सप्रेस

बोकारो के स्टील प्लांट से ऑक्सीजन के टैंकर लेकर रवाना हुई ऑक्सीजन एक्सप्रेस ग्रीन कॉरिडोर से होते हुए रात के 12 बजे तक दीनदयाल उपाध्याय नगर (मुगलसराय) सीधा पहुंच जाएगी। इसके बाद वहां से वाराणसी और सुलतानपुर होते हुए ऑक्सीजन एक्सप्रेस को शनिवार सुबह 7 बजे तक लखनऊ पहुंचने का समय निर्घारित किया है। और लखनऊ में सिर्फ 3 टैंकर आएंगे। इसके एक टैंकर में 20 हजार लीटर लिक्विड ऑक्सीजन है। इन सभी में लिक्विड ऑक्सीजन है, जो अस्पतालों में भर्ती मरीजों को दी जाती है। जिसकी कमी के चलते कई राज्यों मे इसको लेकर अफरातफरी जैसा माहोल देखने को मिल रहा है।

रेल मंत्री ने दी जानकारी

वहीं रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी बताया कि ऑक्सीजन एक्सप्रेस दिन में दो बजे बोकारो के स्टील प्लांट से टैंकर में लोडकर लखनऊ के लिए रवाना हुई है। यह ट्रेन उत्तर प्रदेश में ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए रवाना हुई है। इस ट्रेन के जल्दी पहुंचने के लिए ग्रीन कॉरीडोर बनाया गया है। ऑक्सीजन की समुचित सप्लाई के लिए रेलवे प्रतिबद्ध है। इसके लिए रेलवे निरंतर कार्य कर रहा है।

ऑक्सीजन की मारामारी

देश भर के कई राज्यों में कोरोना वायरस संक्रमण की तबाही से लोगों को न तो सही से इलाज मिल रहा है और न ही बेड। और अब तो ऑक्सीजन समाप्त होने के बाद स्थिति बेहद ही खराब हो गई है। लगभग सभी बड़े हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की किल्लत हो गयी है। गंभीर रोग का इलाज करा रहे लोगों को ऑक्सीजन नहीं मिल रही है। लोग ऑक्सीजन की कमी से मर रहे हैं। इसी के चलते लोगों की जान जा रही है जिसकी वजह से कब्रिस्तान और श्मशान में लोगो को घंटो वेटिंग करना पड़ रहा है।

अब कोरोना एप से मिलेगी अस्पताल के बेड्स की जानकारी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *