Punjab में नशीले पदार्थ देकर UP, बिहार के मजदूरों से कराया जा रहा है काम

Punjab
Punjab

नई दिल्ली: Punjab: केंद्र सरकार ने पंजाब सरकार को सूचित किया है कि बिहार और उत्तर प्रदेश के मानसिक रूप से कमजोर 58 लोग राज्य के सीमावर्ती जिलों में बंधुआ मजदूरों के रूप में काम करते पाये गये और उन्होंने ये भी कहा है की इस गंभीर समस्या से निपटने के लिए राज्य सरकार को उचित कार्रवाई करनी चाहिए।

Punjab
Punjab

Crime: ग्रेटर नोएडा वेस्ट के एकमूर्ति पर पुलिस मुठभेड़ में पकड़े गए छह बदमाश

Punjab: अच्छे वेतन का वादा

आपको बता दें पंजाब के मुख्य सचिव को लिखे पत्र में केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कहा कि सीमा सुरक्षा बल को पता चला है कि इन 58 लोगों को अच्छे वेतन देने के वादे के साथ इन मजदूरों को पंजाब लाया गया, लेकिन यहाँ इनका शोषण किया गया और इन्हें नशीले पदार्थ देकर अमानवीय स्थितियों में काम करने को बाध्य किया गया। ऐसा बताया गया की इन श्रमिकों को 2019 और 2020 में पंजाब के सीमावर्ती इलाकों गुरदासपुर, अमृतसर, फिरोजपुर और अबोहर से बचाया गया। इसके तहत ये तक पता चला की अधिकतर श्रमिक मानसिक रूप से कमजोर थे और पंजाब के सीमावर्ती गांवों में किसानों के साथ बंधुआ मजदूरों की तरह काम कर रहे थे।

Punjab
crime news

मजदूरों का हुआ शोषण 

आपको बता दें छुड़ाये गये लोग गरीब पारिवारिक से थे और बिहार तथा उत्तर प्रदेश के सुदूर इलाकों के रहने वाले थे। गृह मंत्रालय ने कहा कि इस बारे में सूचना मिली है कि मानव-तस्करी करने वाले गिरोह पंजाब में काम करने के लिए ऐसे मजदूरों को अच्छी पगार का वादा करके उनके पैतृक स्थानों से काम करने के लिए बुलाते है। लेकिन वहां पहुंचने के बाद उनका शोषण किया जाता है, बहुत कम वेतन दिया जाता है और उनके साथ अमानवीय बर्ताव किया जाता है। पंजाब सरकार से इस मामले में की गयी कार्रवाई के बारे में भी प्राथमिकता से सूचित करने को कहा गया है।

अपना उत्तर प्रदेश || Uttarpradesh News || Livenews

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *