BIHAR : PM की रैली से पहले तेजस्वी यादव ने पूछे मोदी से ये 11 सवाल

नई दिल्ली: बिहार में दूसरे चरण के लिए 3 नवंबर को मतदान होने हैं। जहां सभी राजनीतिक पार्टियां जोर-शोर से प्रचार में जुटी हैं। वहीं आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चार रैलियां हैं। दूसरी तरफ प्रधानमंत्री की रैली से ठीक पहले राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के नेता तेजस्वी यादव ने रविवार सुबह फेसबुक पर पोस्ट किया है। इसमें उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी से कुछ सवाल पूछे हैं। इसके अलावा उन्होंने नीतीश कुमार भी निशाना साधा है। उनका कहना है कि इस बार चुनाव में जनता उन्हें सेवामुक्त करने वाली है।

RJD से तेजस्वी का फेसबुक पर पोस्ट: 
महागठबंधन की तरफ से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार तेजस्वी यादव ने अपनी फेसबुक पोस्ट पर लिखा है, ‘माननीय प्रधानमंत्री जी आज बिहार दौरे पर आ रहे हैं। चूंकि वो बिहार में चुनावी प्रचार में आ रहे हैं तो बिहारवासियों को आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि वो सकारात्मकता के साथ केवल और केवल बिहार और बिहारवासियों के जीवन और बेहतरी से संबंधित ज्वलंत मुद्दों, समस्याओं और उनके कार्यकाल में हुए निवारण पर ही अपनी राय रखेंगे।’

शिक्षा-स्वास्थ्य का छेड़ा मुद्दा 
राजद नेता ने लिखा, ‘मैं माननीय प्रधानमंत्री से बिहार की बेहतरी और विकास से जुड़े कुछ सवाल पूछना चाहता हूं क्योंकि उनके अधीन नीति आयोग की रिपोर्ट के अनुसार बिहार शिक्षा, स्वास्थ्य के सभी मानकों और सतत विकास सूचकांक में सबसे फिसड्डी राज्य है।’

तेजस्वी के 11 सवाल प्रधानमंत्री से: 

  • नल-जल योजना पर लगातार शोर मचाने वाली बिहार की डबल इंजन सरकार कुल बजट का केवल चार फीसदी ही जल आपूर्ति और सैनिटेशन पर क्यों खर्च करती है? और उस चार फीसदी का भी 70 फीसदी हिस्सा भ्रष्टाचार की भेंट क्यों चढ़ जाता है?
  • देश के सबसे गरीब राज्यों में से एक बिहार में कुपोषण और भुखमरी पर कुल बजट का 2 प्रतिशत से भी कम क्यों खर्च होता है? 15 वर्ष से एनडीए सरकार रहने के बावजूद भी बिहार में कुपोषण और भुखमरी क्यों है?
  • बिहार के युवाओं को पीएचडी इंजीनियरिंग, एमबीए, एमसीए करने के बाद भी चपरासी और माली बनने के लिए फॉर्म क्यों भरना पड़ता है?
  • बेरोजगारी का केंद्र क्यों है और बिहार में डबल इंजन सरकार में रिकॉर्ड तोड़ बेरोजगारी दर 46.6 प्रतिशत क्यों है?
  • कि जून में उनकी ओर से घोषित गरीब कल्याण रोजगार अभियान का लाभ लॉकडाउन में बिहार लौटे श्रमवीरों को क्यों नहीं मिला?
  • क्यों बिहार के श्रमवीर वापस दूसरे राज्य पलायन करने को मजबूर हुए?
  • मनरेगा योजना के अंतर्गत करवाए गए कार्यों का भुगतान श्रमवीरों को पिछले चार महीने से क्यों नहीं किया गया है? कौन दोषी है- केंद्र या राज्य?
  • गरीब कल्याण रोजगार अभियान के अंतर्गत बिहार के सर्वाधिक जिलों (84 प्रतिशत अथवा 32 जिलों) को डालने के बावजूद भी बिहार के श्रमवीरों की सबसे दयनीय दशा क्यों है?
  • अप्रैल से अगस्त के बीच कुल 11 लाख परिवारों को जॉब कार्ड जारी किए जाने के बावजूद बिहार में केवल 2,132 परिवार ही 100 कार्य दिवस पूरी कर पाए? ऐसा क्यों?
  • एनडीए की नीतीश सरकार अपने कुल बजट का केवल 2 प्रतिशत ही महादलितों पर क्यों खर्च करती है?
  • 2015 में उनकी ओर से घोषित एक लाख 65 हजार करोड़ के विशेष पैकेज की कितनी राशि बिहार को प्राप्त हुई और उसका कितना प्रतिशत विकास कार्यों पर खर्च हुआ? अगर पूर्ण राशि जारी नहीं हुई तो उसका जिम्मेवार कौन है?
  • डबल इंजन सरकार होने के बावजूद भी 2014 में किए गए उनके वादानुसार अभी तक बिहार को विशेष राज्य का दर्जा क्यों नहीं मिला है?

Leave a comment

Your email address will not be published.