“मैं शर्मिंदा हूँ” सुवेंदु अधिकारी ने तृणमूल में अपने 21 साल बिताने पर ऐसे दी प्रतिक्रिया

suvendu adhikari reacts to spending 21 years
suvendu adhikari reacts to spending 21 years

दिल्ली: पश्चिम बंगाल में चुनाव सरगर्मी के बिच में आरोप प्रत्यारोप और दल बदल देखने को मिल रहा है, बंगाल चुनाव में तृणमूल कांग्रेस को ऐसे ही झटका तब लग जब उनके बिच का नेता जिसने पार्टी को दो दशक से ज्यादा समय देने के बाद एकदम से भाजपा का दामन थाम लिया। भाजपा में शामिल होने के बाद पश्चिम बंगाल में BJP के नए नेता सुवेंदु अधिकारी ने कहा है कि तृणमूल कांग्रेस में 21 साल लंबे राजनीतिक करियर को लेकर वह शर्मिंदा हैं. बीजेपी कार्यालय में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अधिकारी ने कहा, जिस पार्टी से मैं जुड़ा रहा था, उसमें अब कोई अनुशासन नहीं रह गया है. अब वह पार्टी से एक कंपनी में बदल गई है. मैं शर्मिंदा हूं कि इस पार्टी से 21 साल तक जुड़ा रहा.

प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन की जरूरत है-

सुवेंदु अधिकारी ने कहा कि पश्चिम बंगाल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन की जरूरत है. यह डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान के कारण ही हम पश्चिम बंगाल में रह सकते हैं. केंद्र और राज्य में बीजेपी सरकार के गठजोड़ के साथ ही बंगाल आर्थिक विकास की राह पर अग्रणी हो सकता है और बेरोजगारी की समस्या से निपट सकता है. अधिकारी ने कहा, मैं गृह मंत्री अमित शाह का आभार प्रकट करता हूं कि उन्होंने ईश्वर चंद्र विद्यासागर की धरती पर हमें स्वीकार किया. बीजेपी दुनिया में सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी है. अब मैं एक राष्ट्रवादी, बहुलतावादी, अनुशासित और देशभक्त पार्टी का सदस्य हूं. हमारा उद्देश्य है कि पार्टी को अगले विधानसभा चुनाव जीत दिलाई जाए और सोनार बांग्ला के सपने को साकार किया जाए.

suvendu adhikari reacts to spending 21 years
suvendu adhikari reacts to spending 21 years

135 BJP कार्यकर्ताओं ने प्राणों का बलिदान दिया-

अधिकारी ने आरोप लगाया कि TMC की अगुवाई में तृणमूल कांग्रेस सरकार ने 73 लाख किसान को किसान सम्मान निधि से वंचित कर रखा है. उन्होंने दावा किया कि बीजेपी कार्यकर्ताओं को निर्दयता से पीटा जा रहा है. झूठे मुकदमे लगाए जा रहे हैं. 135 BJP कार्यकर्ताओं ने पश्चिम बंगाल में पार्टी को मजबूत करने के लिए अपने प्राणों का बलिदान कर दिया है.

Leave a comment

Your email address will not be published.