SEC ने की 2-18 आयुवर्ग के लिए कोवैक्सीन टीके के क्लिनिकल ट्रायल की मांग

कोरोना
कोरोना

नई दिल्ली : दुनिया में कोरोना महामारी से निपटने के लिए वैक्सीनेशन की प्रक्रिया तेजी से जारी है, वहीं अमेरिका में कल बच्चों के लिए भी कोरोना वैक्सीन को मंजूरी दे दी गई है लेकिन भारत में अभी ऐसा नहीं है।ऐसे में बच्चों की सुरक्षा के मद्देनजर एक विशेषज्ञ समिति ने मंगलवार को 2-18 आयुवर्ग के लिए भारत बायोटेक के कोविड-19 टीके कोवैक्सीन के दूसरे/तीसरे चरण के लिए परीक्षण की सिफारिश की है। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी देते हुए बताया कि यह परीक्षण दिल्ली एवं पटना के एम्स और नागपुर स्थित मेडिट्रिना चिकित्सा विज्ञान संस्थान समेत विभिन्न स्थानों पर किया जाएगा।

 

कोरोना
कोरोना

जम्मू-कश्मीर में कोरोना से प्रभावित परिवारों के लिए कल्याणकारी योजनाएं, पढ़ें खबर

दूसरे/तीसरे चरण के परीक्षण की अनुमति दिए जाने की सिफारिश

केन्द्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की कोविड-19 विषय विशेषज्ञ समिति ने मंगलवार को भारत बायोटेक द्वारा किए गए उस आवेदन पर विचार-विमर्श किया जिसमें उसके कोवैक्सीन टीके की दो साल से 18 साल के बच्चों में सुरक्षा और रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने समेत अन्य चीजों का आकलन करने के लिए परीक्षण के दूसरे/तीसरे चरण की अनुमति देने का अनुरोध किया गया था। एक सूत्र ने कहा कि कंपनी के आवेदन पर विस्तृत विचार-विमर्श के बाद समिति ने प्रस्तावित दूसरे/तीसरे चरण के परीक्षण की अनुमति दिए जाने की सिफारिश की।

कोरोना : राजधानी दिल्ली में नीचे आई संक्रमण दर, मौत के मामलों में नहीं दिख रही कमी

फाइजर-बायोएनटेक के वैक्सीन को आपातकालीन उपयोग के लिए मिली मंजूरी

भारत में जहां कोरोना के दूसरे लहर का कहर छाया हुआ है, वहीं दुनिया में कोरोना संक्रमण के मामले में कभी आई है। इसका कारण है सुरक्षा और तेजी से वैक्सीनेशन लगना। इसी बीच अमेरिका के खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने 10 मई को 12 से 15 साल के बच्चों के लिए फाइजर-बायोएनटेक के वैक्सीन को आपातकालीन उपयोग के लिए मंजूरी दे दी है। एफडीए ने बताया कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में एक और महत्वपूर्ण कार्रवाई करते हुए हमने 12-15 वर्ष के बच्चों में आपातकालीन उपयोग के लिए फाइजर-बायोएनटेक कोविड-19 वैक्सीन को अधिकृत किया है।

 

कोरोना
कोरोना

कोरोना वायरस की दूसरी लहर थमने के मिलने लगे संकेत, जानिए क्या है नया आंकड़ा

वहीं, भारत में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि लोगों को कोविड-19 रोधी टीके की 17 करोड़ खुराकें देकर भारत ने दुनिया में सबसे तेजी से टीकाकरण किया है। मंत्रालय ने कहा कि इस आंकड़े तक पहुंचने में चीन को 119 दिन जबकि अमेरिका को 115 दिन लगे। भारत ने 114 दिन में ही यह लक्ष्य हासिल कर लिया।

भारत में अब तक 7.51 ​​करोड़ लोगों को मिली खुराक

बता दें कि भारत में अब तक के आंकड़ों के मुताबिक देश में कोविड-19 टीके की कुल 17.51 ​​करोड़ खुराक दी गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि 18-44 वर्ष के आयुवर्ग के 4,74,629 लाभार्थियों ने मंगलवार को कोविड टीके की अपनी पहली खुराक ली और टीकाकरण अभियान का तीसरे चरण शुरू होने के बाद से सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में टीका लेने वाले इस आयुवर्ग के लोगों की कुल संख्या 30,39,287 हो गई है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *