राम मंदिर जमीन खरीद पर उठे सवाल, सीएम योगी ने मांगी रिपोर्ट

नई दिल्ली: अयोध्या में राम मंदिर जमीन खरीद का मामला गहराता जा रहा है. इसको लेकर कई तरह के सवाल खड़े होने लगे हैं.बीते दिनों आरोप लगा कि मंदिर निर्माण में काम आने वाली एक ज़मीन जिसकी कीमत 2 करोड़ रुपये थी, उसे 18 करोड़ रुपये में खरीदा गया.इन आरोपों के बाद राजनीतिक घमासान जारी है. इस बीच यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने अब पूरे मामले को लेकर रिपोर्ट तलब की है।

Corona Update : देश में घट रहा पॉजिटिविटी रेट, कई जिलों में दर्ज हुई गिरावट

वहीं, इससे पहले राम मंदिर पर उठ रहे सवाल पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी ट्वीट कर सवाल उठाए….और लिखा कि ‘करोड़ों लोगों ने आस्था और भक्ति के चलते भगवान के चरणों में चढ़ावा चढ़ाया। उस चंदे का दुरुपयोग अधर्म है, पाप है, उनकी आस्था का अपमान है।’

रणदीप सुरजेवाला ने किया ट्वीट

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी ट्वीट करके बीजेपी सरकार पर निशाना साधते हुए पूछा कि 2 करोड़ की जमीन 18 करोड़ में कैसे बेची?’
हे राम, ये कैसे दिन आपके नाम पर चंदे लेकर घोटाले हो रहे है। बेशर्म लुटेरे अब आस्था बेच ‘रावण’ से अहंकार में मदमस्त हैं।
सवाल है कि ₹2 करोड़ में ख़रीदी ज़मीन 10 मिनट बाद ‘राम जन्मभूमि’ को ₹18.50 करोड़ में कैसे बेची?
अब तो लगता है. कंसो का ही राज है, रावण हैं चहुँ ओर !

भव्य मंदिर का निर्माण

वहीं, राम मंदिर पर उठ रहे सवाल के बीच यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कार्रवाई का भरोसा दिलाते हुए कहा कि जिनके हाथ राम भक्तों के खून से रंगे हैं, वे लोग सलाह न दें, जिसने गड़बड़ किया होगा, ट्रस्ट उनके खिलाफ कार्रवाई करेगा। जो लोग दोषी होंगे, उनके खिलाफ कार्रवाई होगी। राम लला के भव्य मंदिर का निर्माण होगा। सलाहकार न बनें, जो वहां साधु-संत हैं उन्हें यकीन है कि ट्रस्ट कार्रवाई करेगा।

गौरतलब है कि समाजवादी पार्टी, आम आदमी पार्टी की ओर से आरोप लगाए गए कि राम मंदिर की ज़मीन के नाम पर घोटाला किया गया है. दावा किया गया कि दो करोड़ की ज़मीन को सिर्फ दस मिनट के अंतर पर 18 करोड़ में खरीदा गया है. हालांकि, श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट की ओर से बयान जारी करते हुए इन आरोप का खंडन किया गया।

Leave a comment

Your email address will not be published.