PM मोदी : देश में हो रहा है बदलाव, दुनिया में बढ़ रही भारत की उपलब्धि

prime-minister-narendra-modi-to-address-bjp-mps-on-the-occasion-of-the-death-anniversary-of-pt-deen-dayal-upadhyay
prime-minister-narendra-modi-to-address-bjp-mps-on-the-occasion-of-the-death-anniversary-of-pt-deen-dayal-upadhyay

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को दिल्ली में पंडित दीन दयाल उपाध्याय की पुण्यतिथि के मौके पर भाजपा सांसदों को संबोधितने किया। संबोधन की शुरुआत में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘आज हम सभी दीनदयाल उपाध्याय जी की पुण्यतिथि पर ‘आज उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए एकत्र हुए हैं। पहले भी अनेकों अवसर पर हमें दीनदयाल जी से जुड़े कार्यक्रमों में शामिल होने का, विचार रखने का और अपने वरिष्ठ जनों के विचार सुनने का अवसर मिलता रहा है।

prime-minister-narendra-modi-to-address-bjp-mps-on-the-occasion-of-the-death-anniversary-of-pt-deen-dayal-upadhyay
prime-minister-narendra-modi-to-address-bjp-mps-on-the-occasion-of-the-death-anniversary-of-pt-deen-dayal-upadhyay

पहले राष्ट्रनीति को स्वीकार करेंगे

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘ये हमारी विचार धारा है कि हमें राजनीति का पाठ, राष्ट्रनीति की भाषा में पढ़ाया जाता है। हमारी राजनीति में भी राष्ट्रनीति सर्वोपरि है। यदि हमें राजनीति और राष्ट्रनीति में एक को स्वीकार करना होगा, तो हमें संस्कार मिले हैं हम राष्ट्रनीति को स्वीकार करेंगे, राजनीति को नंबर दो पर रखेंगे।’

दीनदयाल उपाध्याय जयंती पर बोले मोदी

आप सबने दीन दयाल जी को पढ़ा भी है और उन्हीं के आदर्शों से अपने जीवन को गढ़ा भी है। इसलिए आप सब उनके विचारों से और उनके समर्पण से भली-भांति परिचित हैं। मेरा अनुभव है और आपने भी महसूस किया होगा कि हम जैसे-जैसे दीनदयाल जी के बारे में सोचते हैं, बोलते हैं, सुनते हैं, उनके विचारों में हमें हर बार एक नवीनता का अनुभव होता है।’ ‘सामाजिक जीवन में एक नेता को कैसा होना चाहिए, भारत के लोकतन्त्र और मूल्यों को कैसे जीना चाहिए, दीनदयाल जी इसके भी बहुत बड़ा उदाहरण हैं।’

prime-minister-narendra-modi-to-address-bjp-mps-on-the-occasion-of-the-death-anniversary-of-pt-deen-dayal-upadhyay
prime-minister-narendra-modi-to-address-bjp-mps-on-the-occasion-of-the-death-anniversary-of-pt-deen-dayal-upadhyay

उन्होंने कहा, ‘एकात्म मानव दर्शन का उनका विचार मानव मात्र के लिए था। इसलिए, जहां भी मानवता की सेवा का प्रश्न होगा, मानवता के कल्याण की बात होगी, दीनदयाल जी का एकात्म मानव दर्शन प्रासंगिक रहेगा। एक ओर वो भारतीय राजनीति में एक नए विचार को लेकर आगे बढ़ रहे थे, वहीं दूसरी ओर, वो हर एक पार्टी, हर एक विचारधारा के नेताओं के साथ भी उतने ही सहज रहते थे। हर किसी से उनके आत्मीय संबंध थे।’

हमारा देश ही हमारे लिए सब कुछ है

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘लोकल इकोनॉमी पर विजन इस बात का प्रमाण है कि उस दौर में भी उनकी सोच कितनी practical और व्यापक थी।’ प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘हमारे शास्त्रों में कहा गया है, ‘स्वदेशो भुवनम् त्रयम्’ अर्थात, अपना देश ही हमारे लिए सब कुछ है, तीनों लोकों के बराबर है। जब हमारा देश समर्थ होगा, तभी तो हम दुनिया की सेवा कर पाएंगे। एकात्म मानव दर्शन को सार्थक कर पाएंगे।’ प्रधानमंत्री ने आगे बताया, ‘एक ओर वो भारतीय राजनीति में एक नए विचार को लेकर आगे बढ़ रहे थे, वहीं दूसरी ओर, वो हर एक पार्टी, हर एक विचारधारा के नेताओं के साथ भी उतने ही सहज रहते थे। हर किसी से उनके आत्मीय संबंध थे।’

 

Leave a comment

Your email address will not be published.