2023 तक एयरपोर्ट, फिल्मसिटी और बुलेट ट्रेन आ जाएंगे गौतमबुद्ध नगर

pradesh-film-city-will-be-ready-in-2023
pradesh-film-city-will-be-ready-in-2023

ग्रेटर नोएडा : योगी पार्ट दो में वर्ष 2023 तक नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट, बुलेट ट्रेन के साथ ही उत्तरप्रदेश की फिल्म सिटी तैयार हो जाएगी यह विश्वस्तरीय होगी। प्रदेश में प्रतिभाएं भरी पड़ी हैं। यहां के कलाकार मुंबई में काम के लिए भूखे-प्यासे भटक रहे हैं। मौका न मिलने का दर्द उनमें दबा है। फिल्म सिटी उनके सपनों को सच करेगी। यह बातें उत्तर प्रदेश फिल्म विकास परिषद के अध्यक्ष राजू श्रीवास्तव ने कहीं। वह यमुना प्राधिकरण में बुधवार को फिल्म सिटी की प्रगति की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने ओटीटी पर परोसी जा रही सामग्री पर नियंत्रण की जरूरत बताई। बैठक के बाद फिल्म सिटी की साइट का भी निरीक्षण किया।

pradesh-film-city-will-be-ready-in-2023
pradesh-film-city-will-be-ready-in-2023

योगी का काम सराहनीय

यमुना प्राधिकरण में विकसित होने वाली फिल्म सिटी में फिल्म निर्माण की सभी सुविधाएं होंगी। प्री से लेकर पोस्ट प्रोडक्शन का काम यहां होगा। उन्होंने हैरानी जताते हुए कहा कि मुंबई, हैदराबाद में फिल्म सिटी है, लेकिन उत्तर प्रदेश में इस बारे में नहीं सोचा गया। यहां फिल्म सिटी बनाने का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कदम सराहनीय है।

राजू श्रीवास्तव ने कहा-

राजू श्रीवास्तव ने हमारे संवाददाता से बात करते हुए कहा कि 2023 तक एयरपोर्ट, बुलेट ट्रेन, और फिल्म सिटी का कार्य संपन्न हो जायेगा या बहुत ही अच्छा कार्य योगी सरकार द्वारा किया जा रहा है कि फिल्म सिटी के लिए चित्रकूट, वाराणसी, गोरखपुर व लखनऊ कानपुर के बीच भी जगह तलाशने का प्रयास किया गया था, लेकिन कहीं जमीन महंगी थी तो कहीं कनेक्टिविटी की समस्या थी। इसलिए यमुना प्राधिकरण क्षेत्र को इसके लिए चुना गया है। सीबीआरई जल्द ही फिल्म सिटी की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट सौंप देगी। इससे साफ हो जाएगा कि फिल्म सिटी में क्या सुविधाएं होंगी, कैसे विकसित होगी, बजट कितना होगा आदि।

प्रशिक्षण अकादमी के लिए होगी व्यवस्था

फिल्म सिटी में इंस्टीट्यूट, प्रशिक्षण अकादमी काम करने वालों के लिए रहने की व्यवस्था के साथ स्टूडियो, विभिन्न लोकेशन, होटल आदि होंगे। ओवर द टाप (ओटीटी) प्लेटफार्म पर परोसी जा रही सामग्री पर उन्होंने कहा कि यह अभी तक सेंसर के दायरे में नहीं है, लेकिन इसके लिए अलग सेंसर बॉडी बनाने की जरूरत है। इस पर सुझाव मांगे जा रहे हैं। प्रदेश सरकार स्थानीय भाषा की फिल्मों को बढ़ावा देने के लिए सब्सिडी देती है, इसके लिए कंटेंट की जांच होती है, लेकिन वेब सिरीज इसमें शामिल नहीं है। इसलिए कंटेंट की जांच नहीं हो पाती। फिल्म जगत से जुड़े लोगों द्वारा कृषि कानून विरोधी धरने को लेकर किए गए ट्वीट पर कहा कि देश की एकता को बढ़ाने वाले ट्वीट स्वागत योग्य हैं जो अलगाव पैदा करें, उनका विरोध होना चाहिए।

Leave a comment

Your email address will not be published.