कृषि कानून पर तकरार, विरोध में प्रकाश सिंह बादल ने लौटाया पद्म विभूषण

parkash badal return padma vibhushan
parkash badal return padma vibhushan

दिल्लीः कृषि कानूनों के खिलाफ देश में किसानों का आंदोलन बढ़ता जा रहा है. प्रकाश सिंह बादल ने अपना पद्म विभूषण सम्मान लौटाया प्रकाश सिंह बादल ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को करीब तीन पन्ने की चिट्ठी लिखते हुए कृषि कानूनों का विरोध किया, किसानों पर एक्शन की निंदा की और इसी के साथ अपना सम्मान वापस दिया.

अपना पद्म विभूषण लौटाते हुए पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने लिखा, ‘मैं इतना गरीब हूं कि किसानों के लिए कुर्बान करने के लिए मेरे पास कुछ और नहीं है, मैं जो भी हूं किसानों की वजह से हूं. ऐसे में अगर किसानों को अपमान हो रहा है, तो किसी तरह का सम्मान रखने का कोई फायदा नहीं है’

प्रकाश सिंह बादल ने लिखा कि किसानों के साथ जिस तरह का धोखा किया गया है, उससे उन्हें काफी दुख पहुंचा है. किसानों के आंदोलन को जिस तरह से गलत नजरिये से पेश किया जा रहा है, वो दर्दनाक है. अगर जरूरत पड़ी तो सिर्फ प्रकाश सिंह बादल ही नहीं बल्कि अकाली दल के नेता रहे सुखदेव सिंह ढिंढसा भी अपना पद्म भूषण सम्मान भारत सरकार को लौटाएंगे. राज्यसभा के स्तीफा को लेकर सुखदेव सिंह ने मना कर दिया की वह ऐसे ही किसानों की लड़ाई राज्यसभा में लड़ेंगे.

parkash badal return padma vibhushan
parkash badal return padma vibhushan

हरसिमरत कौर बादल भी दे चुकी हैं इस्तीफा-

आपको बता दें कि इससे पहले भी बादल परिवार की ओर से कृषि कानूनों का बड़ा विरोध किया गया था. हरसिमरत कौर बादल ने केंद्रीय मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था और केंद्र के नए कानूनों को किसानों के साथ बड़ा धोखा बताया था. सिर्फ इतना ही नहीं सुखबीर बादल ने अकाली दल के NDA से अलग होने का ऐलान करते हुए पंजाब के चुनावों में अकेला लड़ने की बात कही थी.

parkash badal return padma vibhushan
parkash badal return padma vibhushan

गौरतलब है कि अकाली दल पंजाब में लगातार कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रही है. हालांकि, कैप्टन अमरिंदर सिंह भी अकाली दल पर हमलावर हैं और अकाली दल को घेरते आए हैं. अमरिंदर ने आरोप लगाया था कि जब अकाली दल केंद्र सरकार में शामिल थी, तब ये कानून तैयार हुए थे ऐसे में तब विरोध क्यों नहीं किया गया था.

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कानूनों का विरोध सबसे अधिक पंजाब में ही हो रहा है. पिछले दो महीनों से पंजाब के किसान सड़कों पर हैं, लेकिन अब एक हफ्ते से दिल्ली कूच कर चुके हैं. दिल्ली-एनसीआर के इलाकों को किसानों ने पूरी तरह से घेरा हुआ है और यहीं डेरा जमा लिया है.

Leave a comment

Your email address will not be published.