PAK Media : किसान आंदोलन से ध्यान भटकाकर भारत कर सकता है सर्जिकल स्ट्राइक

pak media on kisan andolan
pak media on kisan andolan

नई दिल्ली : पाकिस्तान को एक बार फिर भारत की सर्जिकल स्ट्राइक का डर सता रहा है. पाकिस्तान के प्रमुख अखबार एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने लिखा है कि खुफिया एजेंसियों से संकेत मिले हैं कि दिल्ली में जारी किसान प्रदर्शनों से ध्यान हटाने के लिए भारत फिर कोई दुस्साहस कर सकता है. अखबार ने सेना के सूत्रों के हवाले से लिखा है कि सर्जिकल स्ट्राइक की आशंका से पाकिस्तान ने भारत से लगी सीमा पर सैनिकों को हाई अलर्ट कर दिया है.

pak media on kisan andolan
pak media on kisan andolan

एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने लिखा है, “भारत की हिंदुत्ववादी नरेंद्र मोदी सरकार देश में जारी विरोध-प्रदर्शनों को कमजोर करने के लिए कुछ भी कर सकती है. भारत ये भी नहीं चाहता है कि सिख किसानों के नेतृत्व में हो रहे आंदोलन से खालिस्तानी आंदोलन को हवा मिले.”

भारत-पाकिस्तान बाउंड्री पर पाकिस्तानी सैनिकों को हाई अलर्ट-

अखबार ने लिखा है कि कई विश्वसनीय सूत्रों से पता चला है कि एलओसी (लाइन ऑफ कंट्रोल) और भारत-पाकिस्तान वर्किंग बाउंड्री पर पाकिस्तानी सैनिकों को हाई अलर्ट पर कर दिया गया है ताकि भारत के किसी भी दुस्साहस का जवाब दिया जा सके. पाकिस्तान के अखबार जियो न्यूज ने भी ये खबर छापी है. पाकिस्तान के अखबार जियो न्यूज ने लिखा है कि पाकिस्तान ने भारत के किसी फ्लैग ऑपरेशन या सर्जिकल स्ट्राइक की आशंका से सेना को अलर्ट पर रखा है. अखबार ने लिखा है कि भारत अपनी आंतरिक और बाहरी समस्याओं से ध्यान हटाने के लिए पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक कर सकता है. अखबार ने लिखा है कि अल्पसंख्यकों, किसान आंदोलन और कश्मीर को लेकर भारत पर बहुत ज्यादा दबाव है. भारत लद्दाख में भी चुनौतियों का सामना कर रहा है.

पाकिस्तान के मंत्री किसानों को भड़काने में जुटे हुए हैं-

पाकिस्तान भारत में जारी किसान आंदोलन को लेकर भी बयानबाजी करने में लगा हुआ है. मोदी सरकार के नए कृषि कानून को लेकर विरोध-प्रदर्शन कर रहे किसानों का कहना है कि नए कानूनों से न्यूनतम समर्थन मूल्य और सरकारी मंडियां खत्म हो जाएंगी और उन्हें निजी खरीदारों को औने-पौने दामों मे अपनी फसल बेचने के लिए मजबूर होना पड़ेगा. सरकार किसानों के साथ इस मुद्दे का समाधान निकालने की कोशिश कर रही है लेकिन पाकिस्तान के मंत्री किसानों को भड़काने में जुटे हुए हैं.

Leave a comment

Your email address will not be published.