पंजाब के किसान जितना धान उगाते हैं, सरकार खरीदती है उससे ज्यादा, अब होगी जांच

paddy procurement
paddy procurement

नई दिल्ली। इस साल अब तक सरकार ने देश भर से 673.53 लाख मीट्रिक टन धान की खरीद कर ली है। लेकिन इसमें से अकेले पंजाब की हिस्सेदारी 202.82 लाख मीट्रिक टन है, जो कि कुल खरीद का 30.11 प्रतिशत है। जबकि आपको बता दे राज्य में धान की कुल पैदावार 1.82 करोड़ टन ही हुई है जिससे ये अनुमान लगाया जारा है की उत्पादन से करीब 20 लाख टन ज्यादा धान सरकार को बेच दिया गया। सवाल ये उठता है कि जब पैदावार कम हुई तो खरीद इतनी कैसे हो गई।

 paddy procurement
paddy procurement

धान बेचकर करोड़ो रुपये कमाए

आपको बता दे पंजाब के 14,89,986 किसानों ने इस साल 202.82 लाख मिट्रिक टन धान बेचकर 38,284.86 करोड़ रुपये कमाए है। जबकि पिछले साल 11,25,238 किसानों को MSP के रूप में 29,787.56 करोड़ रुपये मिले थे। यानी पिछले साल के मुकाबले इस छोटे से सूबे में धान खरीद पर सरकार को 8497.3 करोड़ रुपये अधिक खर्च करने पड़े।

 paddy procurement
paddy procurement

धान की जांच 

इस बार खरीदे गए धान की एजिंग की जांच कराई जा सकती है। आंध्र प्रदेश के कुछ जिलों में भी एजिंग जांच कराई जा रही है। सूत्रों के मुताबिक खाद्य व सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के सचिव सुधांशु पांडेय ने आशंका जताई है कि कहीं राइस मिलों के रास्ते पुराना धान तो दोबारा नहीं बेच दिया गया। यह भी हो सकता है कि नए कृषि कानून की वजह से यहां दूसरे राज्यों के किसानों ने आकर धान बेचा हो।

बिहार: गले में प्याज की माला और सिर पर गैस सिलेंडर रखकर पहुंचे विधानसभा RJD विधायक

खरीद की प्रक्रिया

अभी तक खरीद की जो प्रक्रिया है उसके तहत किसानों को जमीन का ब्यौरा देते हुए रजिस्ट्रेशन कराना पड़ता है। इसके हिसाब से निर्धारण होता है कि किस किसान से कितना धान खरीदा जाएगा। लेकिन पंजाब ऐसा राज्य है जहां किसानों की जमीनों का ब्योरा खरीद पोर्टल से नहीं जुड़ा है. बाकी राज्यों में किसानों की जमीन का ब्यौरा उनकी उपज की खरीद के रजिस्ट्रेशन के साथ जुड़ जाता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.