ALERT: इस द्वीप पर लोग छोड़कर जा रहे हैं अपने घर, आ गई है कुदरती आपदा

other-people-evacuate-after-la-soufriere-volcano-eruption-in-st-vincent-and-the-grenadines-volcano 69065
other-people-evacuate-after-la-soufriere-volcano-eruption-in-st-vincent-and-the-grenadines-volcano 69065

किंग्सटाउन : पूर्वी कैरेबियाई द्वीप पर रहने वाले लोग पिछले करीब तीन दिनों से घर से दूर होने पर मजबूर हो रहे हैं। इसकी वजह बना है वहां का ला सॉफरियर ज्वालामुखी, जो लगातार आग और धुंआ उगल रहा है। इससे निकलते हुए धुएं के गुबार को कई किमी दूर से भी देखा जा सकता है। इस ज्‍वालामुखी में लगातार जबरदस्‍त धमाके हो रहे हैं और बड़ी मात्रा में लावा भी बाहर आ रहा है।

other-people-evacuate-after-la-soufriere-volcano-eruption-in-st-vincent-and-the-grenadines-volcano 69065
other-people-evacuate-after-la-soufriere-volcano-eruption-in-st-vincent-and-the-grenadines-volcano 69065

इसकी वजह लोगों के कई मकान या तो जल गये हैं या फिर क्षतिग्रस्‍त हो गए हैं। इस कारण लोगों को अपना घर छोड़कर दूसरी जगहों पर जाने को मजबूर होना पड़ रहा है।

4 साल की बच्ची ने समुद्र के किनारे खोजे 220 मिलियन वर्ष पुराने डायनासोर के पदचिन्ह

प्रशासन हुआ अलर्ट

प्रशासन ने खतरे को देखते हुए कई जगहों की पावर सप्‍लाई को भी कट कर दिया है, जिसकी वजह से भी लोगों की परेशानी बढ़ गई है। स्‍थानीय प्रशासन के मुताबिक इस ज्‍वालामुखी में हो रहे धमाकों की आवाज करीब 32 किमी दूर से भी सुनी जा सकती है। रॉयटर्स ने यूनिवर्सिटी ऑफ वेस्ट इंडीज सिस्मिक रिसर्च सेंटर के प्रमुख वैज्ञानिक रिचर्ड रॉबर्टसन के हवाले से बताया है कि लोगों को इस ज्‍वालामुखी से फिलहाल निजात नहीं मिलने वाली है। उनके मुताबिक इसमें होने वाले धमाके और निकलने वाली राख और लावे का सिलसिला कुछ और दिनों तक बरकरार रह सकता है।

पहले भी हुआ ये हादसा

इस ज्‍वालामुखी के फटने से लोगों में दहशत व्‍याप्‍त है। हालांकि रॉबर्टसन का कहना है कि कुछ समय के बाद ये धमाके और लावे का निकलना बंद हो जाएगा। स्‍थानीय लोगों के मुताबिक ज्‍वालामुखी की ये घटना 1979 के बाद से सबसे भयंकर है। आपको बता दें कि इस ज्‍वालामुखी में वर्ष 1902 में जबरदस्‍त धमाका हुआ था जिसके बाद लावा और धुंए से पूरा आसमान ढक गया था। इससे निकलने वाले लावे और गर्म राख से करीब 1600 लोगों की मौत हो गई थी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *