Naxal: नक्सलियों के सफाये तक करेंगे जंग, गृहमंत्री शाह का नक्सली गढ़ से एलान

Naxal
Amit Shah

नई दिल्लीः Naxal: जवानों को संबोधित करते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि नक्सली हमले में मारे गए जवानों को मैं प्रधानमंत्री, मेरी ओर से और देश की जनता की ओर से भावपूर्ण श्रद्धांजलि देता हूं। उनके बलिदान को देश भुला नहीं सकता। उनके परिवारों के प्रति देश की सहानूभूति है। आप ने अपने कुछ साथी जरूर गवाएं हैं। आपके साथियों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। जिस उद्देश्य के लिए उन्होंने बलिदान दिया है, निश्चित रूप से वह उद्देश्य पूरा होगा और जीत हमारी होगी। यह लड़ाई है और इस लड़ाई को हमें अंजाम तक पहुंचाना है। जो हथियार डालकर आना चाहते हैं, उनका स्वागत है। लेकिन हाथ में अगर हथियार है तो हमारे पास भी कोई रास्ता नहीं है। कमियों को सुधारने के लिए तुरंत कार्रवाई करेंगे।

Naxal : नक्सलवाद के खिलाफ निश्चित विजय 

शाह ने कहा कि इस तरह के हमलों से नक्सलवाद(Naxal) के खिलाफ लड़ाई रुकेगी नहीं। इस लड़ाई को अंत तक ले जाएंगे। नक्सलवाद के खिलाफ विजय निश्चित है। केंद्र व राज्य सरकार मिलकर लगातार नक्सल प्रभावित इलाकों में आगे बढ़ रहे हैं। उनके प्रभाव वाले अंदरूनी इलाकों में लगातार कैंप खोले जा रहे हैं जिससे वह बौखलाए हुए हैं। आदिवासी इलाकों में विकास की असमानता को दूर करना जरूरी है। इसके साथ ही नक्सलवाद से भी लड़ना है। केंद्र व राज्य सरकार इन दोनों मोर्चो पर कदम से कदम मिलाकर लड़ रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आंतरिक सुरक्षा और विकास दोनों ही मुद्दे पर प्राथमिकता तय की है। शाह ने कहा कि जिस जगह मुठभेड़ हुई है वह नक्सलियों का कोर इलाका है। इसी से पता चलता है कि हम उनके इलाके में काफी आगे तक पहुंच चुके हैं।

इस घटना ने पूरे देश को झकझोरा है: भूपेश

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि इस घटना ने पूरे देश को झकझोरा है। हमारे जवानों ने भी पूरी बहादुरी से जवाब दिया है। यह मुठभेड़ नहीं, बल्कि युद्ध था। पहली बार हमारे जवान उनके इलाके से नक्सली का शव और हथियार भी लेकर आए हैं। पिछले साल मिनपा मुठभेड़ में भी बाद में पता चला था कि 26 नक्सली भी मारे गए हैं। तर्रेम में भी जवानों ने देखा कि वह अपने साथियों का शव उठाने के लिए चार ट्रैक्टर लेकर आए थे। हम उनके गढ़ में बढ़ रहे हैं, यही उनकी बौखलाहट की वजह है।

पुलिस और केंद्रीय फोर्स हाई अलर्ट

बीजापुर में नक्सली मुठभेड़ के बाद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के दौरे को देखते हुए बस्तर संभाग के साथ राज्य के सभी नक्सल प्रभावित जिलों में पुलिस और केंद्रीय फोर्स को हाई अलर्ट रहने के निर्देश दिए गए हैं। पड़ोसी राज्यों झारखंड, महाराष्ट्र, ओडिशा व तेलंगाना पुलिस को भी सतर्क किया गया है। इन राज्यों से लगी सीमा पर भी फोर्स ने चौकसी बढ़ा दी है। पुलिस अफसरों के अनुसार, स्पेशल इंटेलिजेंस ब्यूरो (एसआइबी) को मिले खुफिया इनपुट और पूर्व अनुभव के आधार पर यह अलर्ट जारी किया है। सूत्रों के अनुसार पुलिस मुख्यालय (पीएचक्यू) ने केंद्रीय गृह मंत्री के छत्तीसगढ़ प्रवास के दौरान राजधानी पुलिस को भी विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *