गिलोय को दिया जाए राष्ट्रीय औषधि का दर्जा : समाजसेवी हरपाल राणा

harpal singh rana
harpal singh rana

नई दिल्लीः आयुर्वेद में ऐसी कई औषधियां है जिनका इस्तेमाल बड़ी से बड़ी बीमारी को ठीक करने के लिए किया जाता है लेकिन हैरानी की बात यह है कि अब तक किसी भी औषधि को राष्ट्रीय औषधि का दर्जा नहीं मिला है. गिलोय को राष्ट्रीय औषधि का दर्जा दिलाने के लिए समाजसेवी हरपाल राणा पिछले कई वर्षों से काम कर रहे हैं और पत्राचार के दौरान उन्हें काफी हद तक सफलता भी मिली है।

देश में अब कोरोना के सबसे कम मामले, मौतों की संख्या भी घटी, जानें

राष्ट्रीय औषधि दर्जा दिलाने की मांग

बता दें की गिलोय को लेकर अब कई लैबोरेट्रीयो में जांच चल रही है और बताया जा रहा है बहुत जल्द गिलोय को भारत में राष्ट्रीय औषधि का दर्जा मिल सकता है.गिलोय खासतौर पर कोविड-19 में बेहद कारगर साबित हुई है . कोविड-19 डेंगू चिकनगुनिया और कई बीमारियां ऐसी हैं जिसमें गिलोय अमृत के समान लोगों के लिए एक औषधि बनकर सामने आई है खास तौर पर कोरोना महामारी के समय में गिलोय के सेवन से कई लोगों की जान बची है।

giloy
giloy

तीसरी लहर की तैयारी, दिल्ली AIIMS में आज से बच्चों पर कोवैक्‍सीन का ट्रायल शुरू

समाजसेवी हर पाल राणा

गौरतलब है की गिलोय के सेवन से इम्यूनिटी तो मजबूत होती ही है साथ ही कई तरीके की बीमारियों से भी लोगों को छुटकारा मिलता है यही वजह है कि पिछले 2 साल से लगातार समाजसेवी हर पाल राणा गिलोय को राष्ट्रीय वर्ष घोषित करने के प्रयास में लगे हुए हैं और इस बाबत कई जगहों पर पत्राचार भी किया गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *