गौतमबुद्ध नगर में पंकज सिंह ने संभाली कमान, बीजेपी ने तेज की एमएलसी चुनाव की तैयारी

MLC CHUNAV 2020
MLC CHUNAV 2020

नई दिल्ली: सोमवार को 23 नवंबर को आगामी शिक्षक एवं स्नातक एमएलसी चुनाव की तैयारियों के मद्देनजर गौतम बुद्ध नगर के बिसरख गांव के जी.एस रूप फार्म हाउस पर भारतीय जनता पार्टी की समीक्षा बैठक का आयोजन हुआ ।

MLC CHUNAV 2020
MLC CHUNAV 2020

इस बैठक में मुख्य अतिथि के रुप में भारतीय जनता पार्टी प्रदेश उपाध्यक्ष व नोएडा विधायक पंकज सिंह शामिल हुए तथा
विधायक दादरी तेजपाल नागर जिला अध्यक्ष विजय भाटी, मंडल अध्यक्ष रवि भदौरिया, महेश शर्मा, मनोज भाटी सहित बड़ी सख्या में कार्यकर्ता उपस्थित रहे ।

MLC CHUNAV 2020
MLC CHUNAV 2020

पंकज सिंह ने सभी कार्यकर्ताओं से चुनावी तैयारी पर बात की तथा कुछ दिशा निर्देश भी दिए और सभी कार्यकर्ताओं से 1 दिसंबर को वोटिंग के लिए पूरी ऊर्जा से जुड़कर भाजपा प्रत्याशियों की जीत सुनिश्चित करने को कहा, इसके बाद दोनों विधायकों और जिला अध्यक्ष ने दादरी, कासना और दनकौर पोलिंग सेंटर्स पर भी बैठक कर तैयारियों का जायज़ा लिया ।

MLC CHUNAV 2020
MLC CHUNAV 2020

ज्ञात रहे की बीजेपी पहली बार स्नातक एवं शिक्षक एमएलसी चुनाव अपने सिंबल पर लड़ रही है, इसलिए इस बार चुनाव बीजेपी ने अपनी प्रतिष्ठा का बना लिया है,बीजेपी ने जहा ब्राह्मण चेहरे श्रीचंद शर्मा पर अपना दाव लगाया है, वही स्नातक के लिए दिनेश गोयल मैदान में है ।

MLC CHUNAV 2020
MLC CHUNAV 2020

शिक्षक और स्नातक क्षेत्र के एमएलसी चुनाव में अब तक ओम प्रकाश शर्मा गुट पूरी तरह हावी रहा है। शिक्षक सीट पर शर्मा पिछले 48 साल अर्थात आठ बार से लगातार एमएलसी निर्वाचित होते आ रहे हैं तो स्नातक सीट से भी उनके ही गुट के हेम सिंह पुंडीर लगातार चार बार से एमएलसी चुने जाते रहे हैं। इस बार भाजपा ने शर्मा का वर्चस्व तोड़ने की रणनीति बनाई है ।

MLC CHUNAV 2020
MLC CHUNAV 2020

दरअसल, भाजपा ने पंचायत से लेकर लोकसभा तक का चुनाव लड़ने का एलान किया था। इसी के तहत शिक्षक और स्नातक सीट पर भी भाजपा ने पिछले साल से ही तैयारी शुरू कर दी थी। इसके लिए बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं को सक्रिय कर स्नातक सीट के लिए वोटर बनाए गए तो दूसरी तरफ ऐसे निजी कॉलेज और स्कूलों के शिक्षक भी वोटर बनाए गए, जो अपने शिक्षकों को सरकारी जानकारी में नियुक्ति देते हुए वेतन प्रदान करते हैं। इसके चलते स्नातक सीट पर करीब एक लाख और शिक्षक सीट पर करीब 10 हजार वोटर बढ़े हैं। शिक्षक सीट पर करीब 35 हजार तो स्नातक सीट पर करीब तीन लाख मतदाता मतदाता सूची में शामिल किए गए हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.