मनीष सिसोदिया ने सुझाया 12वीं के छात्रों को नंबर देने का फार्मूला, जानें मूल्यांकन का तरीका

manish sisodia
manish sisodia

नई दिल्लीः 12 वीं की परीक्षाएं रद्द होने पर दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने केंद्र को एक पत्र लिखकर एक सुझाव दिया है. उन्होंने बताया की सीबीएसई किस तरह 12वीं कक्षा के छात्रों का मूल्यांकन कर अंक निर्धारित कर सकती है. परीक्षाएं रद्द होने के बाद अब सबसे बड़ा सवाल यही सामने आ रहा है कि किस आधार पर छात्र-छात्राओं को नंबर दिए जाएं।

स्वास्थ्यकर्मी ने काटे कोरोना मरीजों के बाल और दाढ़ी, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल

पूर्व प्रदर्शन के आधार पर नंबर

बता दें की मनीष सिसोदिया ने अपने पत्र में लिखा कि 12वीं के छात्रों को उनके पूर्व प्रदर्शन के आधार पर नंबर दिए जाएं जिसमें 11वीं कक्षा के फाइनल एग्जाम और 10वीं में हासिल किए नंबरों को भी आधार बनाया जाए. सिसोदिया ने लिखा कि 12वीं में दिए गए प्री-बोर्ड और प्रैक्टिकल के साथ साथ 11वीं कक्षा के फाइऩल एग्जाम में हासिल हुए नंबर और 10वी बोर्ड में हासिल किए गए नंबरों का एक आधार बनाकर 12वीं बोर्ड के अंक तैयार करने चाहिए।

मनीष सिसोदिया के सुझाव

सिसोदिया ने ये भी सुझाव दिया कि 11वीं की फाइनल परीक्षा और 12वीं के प्री-बोर्ड और प्रैक्टिक्ल के साथ 10वीं की परीक्षा में हासिल किए नंबरों को प्रतिशत में किस तरह बांट सकते हैं. सिसोदिया ने 12वीं के प्री-बोर्ड को 30 प्रतिशत, 11वीं के फाइनल एग्जाम अंकों को 20 प्रतिशत और दसवीं की परीक्षा में हासिल नंबरों को 20 प्रतिशत महत्व दिए जाने की बात कही बाकी के बचे 30 प्रतिशत नंबर स्कूल द्वारा कराए गए प्रैक्टिकल मार्कस से निर्धारित किए जाने का सुझाव दिया।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री को लिखा पत्र

सिसोदिया ने ये पत्र केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल को लिखा है. सिसोदिया ने ये भी कहा कि केंद्र को “प्लस या माइनस फाइव मार्क्स” की मॉडरेशन सीमा भी तय करनी चाहिए. गौरतलब है कि सीबीएसई की मार्कस मॉडरेशन को लेकर एक पहले से प्रक्रिया है.केंद्र सरकार ने 4 जून को एक टीम भी गठित की थी. इसी टीम में 13 लोगों को शामिल किया गया जिनके ऊपर छात्रों को नंबर दिए जाने का आधार और प्रक्रिया बनाने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी।

 

Leave a comment

Your email address will not be published.