नोएडा में पकड़ा जाली नोट का तस्कर, पाकिस्तान से जुड़े थे तार

/lucknow-city-up-ats-arrested-indian-fake-currency-smuggler-pakistan-made-notes-supply-to-india-through-bangladesh
/lucknow-city-up-ats-arrested-indian-fake-currency-smuggler-pakistan-made-notes-supply-to-india-through-bangladesh

नोएडा : उत्तर प्रदेश आतंकवाद निरोधक दस्ता (यूपी एटीएस) ने जाली नोटों की तस्करी के मामले में वांछित चल रहे 25 हजार रुपये के इनामी सदर अली को गिरफ्तार किया है। मालदा (पश्चिम बंगाल) निवासी सदर अली को नोएडा के महामाया फ्लाई ओवर के पास बुधवार को पकड़ा गया। एटीएस सदर अली की पत्नी मुमताज की भी तलाश कर रही है। मुमताज पर भी 25 हजार रुपये का इनाम घोषित है। सदर ने पूछताछ में बताया कि जाली नोट पाकिस्तान में बनते थे, जिन्हें बांग्लादेश के जरिए भारत में सप्लाई किया जाता था।

/lucknow-city-up-ats-arrested-indian-fake-currency-smuggler-pakistan-made-notes-supply-to-india-through-bangladesh
/lucknow-city-up-ats-arrested-indian-fake-currency-smuggler-pakistan-made-notes-supply-to-india-through-bangladesh

Corona : देश में मिल रहे रिकॉर्डतोड़ केस, डॉक्टरों की छुट्टी हुई कैंसिल तो कहीं सीमाएं कर दी सील

एटीएस ने किया गिरफ्तार

यूपी एटीएस ने एक नवंबर 2020 को तहसीन खान व वसीम खान को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से 5.97 लाख रुपये के जाली नोट बरामद किए थे। जाली नोट उच्चगुणवत्ता के थे और उन्हें पश्चिम बंगाल से लाकर उत्तर प्रदेश व अन्य राज्यों में सप्लाई किया जाता था। गिरफ्तार तस्करों के विरुद्ध एटीएस के लखनऊ स्थित थाने में एफआइआर दर्ज की गई थी।

पत्नियों का भी कनेक्शन

एटीएस अधिकारियों के अनुसार तहसीन व वसीम से पूछताछ में सामने आया था कि उन्हें जाली नोट पश्चिम बंगाल में सदर अली व उसकी पत्नी मुमताज से मिले थे। जाली नोटों की सप्लाई उत्तर प्रदेश के अलावा हरियाणा व एनसीआर क्षेत्र में भी की जा रही थी। तभी से सदर व उसकी पत्नी की तलाश की जा रही थी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *