ट्विटर और सरकार के बीच विवाद, Koo App ने बटोरीं सुर्खियां

koo app
koo app

नई दिल्लीः देश में आत्मनिर्भर भारत पहल पर कोशिशें काफी तेज हो गई हैं. दरअसल पिछले कुछ समय से माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर और भारत सरकार के बीच काफी विवाद देखने को मिल रहा है. इसी बीच इन दिनों कू ऐप काफी चर्चा में आ गई है. इसे ट्विटर का देसी विकल्प कहा जा रहा है. ऐसे में कई सरकारी विभाग और केंद्रीय मंत्री भी लगातार ‘Koo App’ पर एक्टिव होने लगे हैं।

Koo App
Koo App

ट्विटर का देसी विकल्प-

बता दें की ट्विटर के देसी विकल्प कू ऐप को बेंगलुरु के रहने वाले एंटरप्रेन्योर ए. राधाकृष्णनन और मयंक बिडवाटका ने बनाया है. कू ऐप को 2020 की शुरुआत में ही शुरू कर दिया गया था, लेकिन यह चर्चा में तब आया जब इसने आत्मनिर्भर ऐप इनोवेशन चैलेंज को जीता.तो वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मासिक रेडियो शो ‘मन की बात’ में भी “कू ऐप” को लेकर चर्चा की थी, साथ ही केंद्रीय मंत्रियों के इस पर रुख करने के बाद एक बार फिर से यह ऐप सुर्खियों में आ गया है।

भाजपा उपाध्यक्ष सत्यपाल सैनी ने गौतमबुद्ध नगर के बिसरख मंडल में की बजट पर चर्चा

पीयूष गोयल ने बनाया अकाउंट-

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट कर बताया कि उन्होंने कू ऐप को जॉइन कर अकाउंट बना लिया है। देश में कुछ समय से ट्विटर और भारत सरकार के बीच कुछ विवाद की स्थिति बनी हुई है और ऐसे में हर तरह से कोशिश की जा रही है कि जितने भी पॉप्युलर ऐप्स हैं, उनके देसी विकल्प की तरफ लोगों का ध्यान आकर्षित किया जाए। इसके साथ ही सांसद तेजस्वी प्रकाश, रविशंकर प्रसाद, कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा और पूर्व क्रिकेटर अनिल कुंबले भी कू पर एक्टिव हो गए हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.