Mahashivratri 2021: पाकिस्तान में भगवान शिव का प्राचीन मंदिर जहाँ गिरा था शिवनेत्र

katasraj-temple-in-pakistan-which-is-also-known-as-shiva-netra
katasraj-temple-in-pakistan-which-is-also-known-as-shiva-netra

नई दिल्ली : आज देशभर में महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जा रहा है और इस मौके पर भारत के शिव मंदिरों में जमकर भीड़ है. अगर हम आपको बताएं कि पाकिस्‍तान में भी एक शिव मंदिर है और इस शिव मंदिर को शिव नेत्र के तौर पर जाना जाता है, तो शायद आपको यकीन नहीं होगा.

katasraj-temple-in-pakistan-which-is-also-known-as-shiva-netra
katasraj-temple-in-pakistan-which-is-also-known-as-shiva-netra

पाकिस्‍तान के पंजाब प्रांत में यह मंदिर है और इसे कटासराज मंदिर के तौर पर जानते हैं. कटासराज, पाकिस्‍तान स्थित भगवान शिव का सबसे प्राचीन मंदिर है. इस मंदिर का जिक्र महाभारत काल में भी मिलता है. हिंदू धर्म में इस मंदिर को बहुत पवित्र माना जाता है.

18 साल से पाकिस्तान की जेल में बंद निर्दोष महिला लौटी भारत, पुलिस ने किया स्वागत

पाकिस्तान का शिव मंदिर कई वर्ष पुराना

पाकिस्‍तान के सियालकोट में भी एक शिव मंदिर है जो 1000 साल पुराना है. साल 2019 में इसे 72 साल के बाद फिर से खोला गया है. इस मंदिर को शिवालय तेजा सिंह मंदिर के नाम से जानते हैं. सन् 1947 में जब भारत-पाकिस्‍तान के बीच बंटवारा हुआ तो इस मंदिर को खूब नुकसान पहुंचा और बाद में इसे बंद कर दिया गया था.

पाकिस्तान सरकार के खिलाफ प्रदर्शन, नरेंद्र मोदी की फोटो के साथ लगे आजादी के नारे

10 वीं सदी के हैं मंदिर-

कटासराज मंदिर पंजाब प्रांत के उत्‍तर में स्थित नमककोह की पहाड़‍ियों में स्थित है और हिंदुओं का प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है. यहां एक प्राचीन शिव मंदिर के अलावा कुछ और भी मंदिर भी हैं. कहते हैं कि ये सभी मंदिर 10वीं सदी के हैं. इतिहासकारों एवं पुरात्तव विभाग के अनुसार, इस जगह को शिव नेत्र माना जाता है. इतिहासकारों के मुताबिक जब माता सती ने खुद के प्राणों की आहुति दी थी तो भगवान शिव की आंखों से दो आंसू टपके थे.

हिंदू धर्म की मान्‍यताओं के मुताबिक एक आंसू कटास पर टपका जहां अमृत बन गया. यह आज भी महान सरोवर अमृत कुंड तीर्थ स्थान कटासराज के रूप में है. बताया जाता है कि दूसरा आंसू राजस्थान के अजमेर में और पुष्‍कर में टपका था.

महाभारत के समय की दास्तान

यह कहानी भी है कि महाभारत में पांडव वनवास के दिनों में इन्ही पहाड़ियों में अज्ञातवास में रहे थे. जब पांडव अज्ञातवास के रास्‍ते पर थे तो उन्‍हें प्यास लगी और वे पानी की खोज में यहां तक पहुंचे थे. इस कुण्ड पर यक्ष का अधिकार था. सबसे पहले नकुल पानी लेने गए और जब वह पानी पीने लगे तो यक्ष ने आवाज दी की. उन्‍होंने कहा कि पानी पर उनका अधिकार है और वह इसे पीने की कोशिश न करें. यक्ष ने नकुल से का कि अगर उन्हें पानी लेना है तो फिर पहले उनके प्रश्नों का उत्तर देना होगा. नकुल सही जवाब नहीं दे सके और और पानी पीने लगे. यक्ष ने उन्‍हें बेहोश कर दिया.

Leave a comment

Your email address will not be published.