जानिए अंतरिक्ष पर क्यों भेजी गयी भगवद् गीता और पीएम मोदी की तस्वीर

isro news
isro news

नई दिल्ली: भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने श्रीहरिकोटा से पी.एस.एल.वी.-सी 5 के जरिये एमेजोनिया-वन और 18 अन्‍य उपग्रहों को आज लांच किया। बता दें पीएसएलवी-सी51 रॉकेट द्वारा प्रक्षेपित किए जाने वाले ब्राजील के Amazonia-1 में Amazonia-1 प्राइमरी सैटेलाइट है और इसके साथ 18 अन्य सैटेलाइट्स भी हैं। अंतरिक्ष की दुनिया में इसरो हर दिन आगे बढ़ रहा है।

isro news
isro news

जानें प्रबुद्ध भारत का इतिहास, जिसकी 125 वीं वर्षगांठ पर Modi कर रहे हैं संबोधित

भेजी गयी पीएम मोदी और भगवद् गीता की तस्वीर

एक तरफ जहां ये स्पेस मिशन भारत के लिए बेहद अहम रहा तो वहीं इस लांच की खास बात ये भी रही कि इसरो ने इस बार अपने PSLV- C51 रॉकेट के साथ पीएम नरेंद्र मोदी की तस्वीर और भगवद् गीताभी अंतरिक्ष में भेजी है। इसरो ने अपने सतीश धवन सैटेलाइट के शीर्ष पैनल पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर उकेरी है। बता दे यह कदम पीएम की आत्मनिर्भर पहल और निजी कंपनियों के अंतरिक्ष की राह खोलने वाले निर्णय से एकजुटता दिखाने के लिए उठाया गया है। यह इतिहास में पहली बार होगा कि प्रधानमंत्रियों की तस्वीर को आत्मानिर्भर मिशन ’शब्दों के साथ शीर्ष पैनल पर अंतरिक्ष में ले जाया गया है।

isro news
isro news

क्यों भेजी गई भगवद् गीता?

आपको बता दे की इसके साथ भगवदगीता भी अंतरिक्ष में भेजी गई है। भागवत गीता को अंतरिक्ष में ले जाने का विचार स्पेस किड्ज इंडिया के सीईओ डॉ. श्रीमति केसन ने ही दिया है। उनके मुताबिक, दुनिया के अन्य अंतरिक्ष मिशन में भी अपनी पवित्र पुस्तकों जैसे- BIBLE को ले जाने का प्रचलन है। भारत में यह इतिहास बनाएगा क्योंकि ऐसा कुछ भी भारत में कभी नहीं हुआ है।

Leave a comment

Your email address will not be published.