कोरोना संकट के बीच अब ISRO ने बनाए स्वदेशी ऑक्सीजन कंसंट्रेटर

नई दिल्लीः देश में कोरोना संकट के बीच अब इंडियन स्पेस रिसर्च आर्गेनाइजेशन के विक्रम साराभाई स्पेस सेंटर (VSSC) ने मेडिकल ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बनाया है. जिसका नाम “श्वास” दिया गया है. जो कि ऑक्सीजन सपोर्ट पर रहने वाले मरीज को ऑक्सीजन का समृद्ध स्तर 95% से अधिक ऑक्सीजन प्रदान करेगा।

कोरोना की तीसरी लहर की चिंता, जल्द शुरू होगा बच्चों की कोवैक्सीन का ट्रायल

श्वास ऑक्सीजन कंसंट्रेटर

बता दें की ISRO द्वारा बनाए गए श्वास ऑक्सीजन कंसंट्रेटर प्रेशर स्विंग एडसॉर्पशन द्वारा हवा से नाइट्रोजन गैस को अलग कर ऑक्सीजन की मात्रा का बढ़ा कर इसे मरीजों को प्रदान करेगा. यह एक मिनट के भीतर करीब 10 लीटर ऑक्सीजन देने में सक्षम है. जिससे एक ही वक्त पर दो मरीजों का उपचार हो सकता है।

दिल्ली : अस्पतालों में ऑक्सीजन बेड्स हो रहे खाली, थम रही कोरोना की लहर

600 वॉट पावर

ISRO द्वारा बनाए गए यह कंसेंट्रेटर 600 वॉट पावर का है जो कि 220 V/50 हर्टज के वोल्टेज पर चलेंगे. जिसमें ऑक्सीजन कंसंट्रेशन 82% से 95% से ज्यादा होगा. इसमें फ्लो रेट और लो प्योरिटी या कम या हाई लेवल प्यूरिटी के लिए ऑडिबल अलार्म भी रखा गया है. इसरो द्वारा बनाए गए इस ऑक्सीजन कंसंट्रेटर का वजन करीब 44 किलो का है जो कि ऑक्सीजन कंसंट्रेशन, प्रेशर और फ्लो रेट को डिस्प्ले करेगा।

 

Leave a comment

Your email address will not be published.