अर्थव्यवस्था में आ रही है तेजी, कोरोना संकट से उबर रहा है देश

indian economy recovery
indian economy recovery

नई दिल्लीः दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस के बीच एक अच्छी खबर आई है. साल 2025 तक भाारत एक बार फिर दुनिया की पांच सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में शामिल हो जाएगा. आपको बता दें मौजूदा समय में भारत दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है. बता दें कि भारत कि आर्थिक गतिविधियों में सुधार दिख रहा है।

indian economy recovery
indian economy recovery

दरसल Goods and Service Tax (GST) कलेक्शन ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. दिसंबर में GST कलेक्शन 1.15 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा रहा है. पूरे देश में जुलाई 2017 में GST लागू हुआ था, वित्त मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा कि ये GST लागू होने के बाद अबतक का सबसे ज्यादा GST कलेक्शन है।

GST कलेक्शन 1 लाख करोड़ के पार-

नवंबर से लेकर 31 दिसंबर 2020 तक कुल 87 लाख GSTR-3B रिटर्न्स दाखिल किए गए हैं. दिसंबर के GST कलेक्शन के आंकड़ों पर वित्त मंत्रालय ने बताया कि उम्मीद के मुताबिक GST रेवेन्यू में रिकवरी ट्रेंड को देखते हुए दिसंबर 2020 में GST कलेक्शन दिसंबर 2019 के मुकाबले 12 परसेंट ज्यादा है. 2020 में ये छठा मौका रहा जब GST कलेक्शन 1 लाख करोड़ रुपये के पार हो गया. अप्रैल में सरकार ने कोरोना संकट की वजह से डाटा जारी नहीं किया था।

मकानों के दाम बढ़े-

शहरों के हिसाब से बात करें तो मकानों के दाम में सबसे ज्यादा बढ़ोतरी पश्चिमी भारत में हुई. मुंबई मेट्रोपॉलिटन रीजन में मकानों की कीमत एक पर्सेंट बढ़ी जबकि अहमदाबाद में 1.4 पर्सेंट का इजाफा हुआ. दक्षिण में बेंगलुरू के प्रॉपर्टी मार्केट का भाव जस का तस रहा जबकि हैदराबाद और चेन्नई में दाम 1-3 पर्सेंट घटे. दिल्ली-एनसीआर के नोएडा और गुरुग्राम में मकानों का दाम मामूली तौर पर घटा लेकिन नोएडा एक्सटेंशन, न्यू गुरुग्राम और सोहना में किफायती मकानों के दाम बढ़े।

 

Leave a comment

Your email address will not be published.