‘धार्मिक कट्टरता’ और ‘आक्रामक राष्ट्रवाद’ की महामारी का शिकार हुआ देश : हामिद अंसारी

Hamid Ansari society became victim of two pandemics
Hamid Ansari society became victim of two pandemics

नई दिल्ली: देश के पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने देश में मौजूदा हालात पर चिंता जाहिर की है। उन्होंने कहा कि आज देश ऐसी विचारधाराओं से खतरे में दिख रहा है जो देश को ‘हम और वो’ की काल्पनिक श्रेणी के आधार पर बांटने की कोशिश करता है। उप राष्ट्रपति ने इस मुद्दे पर खुल कर अपनी बात रखी।

Hamid Ansari society became victim of two pandemics
Hamid Ansari society became victim of two pandemics

पूर्व उप राष्ट्रपति ने कहा कि कोरोना महामारी संकट से पहले ही भारतीय समाज दो अन्य महामारियों- ‘धार्मिक कट्टरता’ और ‘आक्रामक राष्ट्रवाद’ का शिकार हो चुका था। उन्होंने कहा कि जबकि इन दोनों के मुकाबले देश प्रेम ज्यादा सकारात्मक अवधारणा है, क्योंकि यह सैन्य और सांस्कृतिक रूप से रक्षात्मक है।

Hamid Ansari society became victim of two pandemics
Hamid Ansari society became victim of two pandemics

पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने यह बातें कांग्रेस नेता शशि थरूर की नई किताब ‘द बैटल ऑफ बिलॉन्गिंग’ के डिजिटल विमोचन के मौके पर कहीं। हामिद अंसारी ने कहा कि चार सालों के कम समय में भी भारत ने एक उदार राष्ट्रवाद के बुनियादी नजरिए से सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की एक ऐसी नई राजनीतिक परिकल्पना तक का सफर तय कर लिया जो सार्वजनिक क्षेत्र में मजबूती से घर कर गई है।

किताब विमोचन के दौरान चर्चा में भाग लेते हुए जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने कहा, 1947 में हमारे पास मौका था कि हम पाकिस्तान के साथ चले जाते, लेकिन मेरे वालिद और अन्य लोगों ने यही सोचा था कि दो राष्ट्र का सिद्धांत हमारे लिए ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार देश को जिस तरह से देखना चाहती है उसे वह कभी स्वीकार नहीं करने वाले हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.