श्री गुरु तेग बहादुर जी का 400वां प्रकाश पर्व आज, जानें उनके विषय में

नई दिल्लीः देश में आज पूर्ण कोरोना नियमों के पालन के साथ सिखों के नौवें गुरु श्री गुरु तेग बहादुर जी का 400वां प्रकाश पर्व मनाया जा रहा है।लोग मास्क लगाकर मत्था टेकने पहुंच रहे हैं। कोरोना महामारी को देखते हुए इस बार गुरुद्वारों में कोई बड़ा प्रोग्राम नहीं बल्कि छोटे-छोटे कार्यक्रम ही किए जा रहे हैं। इस खास दिन पर गुरु साहिब के इतिहास और शहादत के बारे में बताया जाता है।

Vaccination : देश में आज से 18+ को लगेगी वैक्सीन, जानें किन राज्यों में लगेगा टीका

गुरु तेग बहादुर जी का 400वां पर्व

बता दें की अमृतसर में जन्मे गुरु तेग बहादुर गुरु हरगोविन्द जी के पांचवें पुत्र थे, 8वें गुरु हरिकृष्ण राय जी के निधन के बाद इन्हें 9वां गुरु बनाया गया था। इन्होंने आनन्दपुर साहिब का निर्माण कराया और वहीं रहने लगे थे। मात्र 14 वर्ष की आयु में अपने पिता के साथ मुगलों के हमले के खिलाफ हुए युद्ध में उन्होंने अपनी वीरता का परिचय दिया। इस वीरता से प्रभावित होकर उनके पिता ने उनका नाम तेग बहादुर यानी तलवार के धनी रख दिया।बहादुर बचपन से ही बहादुर, निर्भीक स्वभाव वाले थे।

guru-teg-bahadur-life
guru-teg-bahadur-life

20 वर्ष तक की तपस्या

श्री गुरु तेग बहादुर जी ने अपना जीवन में मजलूम लोगों की अत्याचारियों से रक्षा करते हुए गुजारा। धैर्य, वैराग्य और त्याग की मूर्ति गुरु तेग बहादुर जी ने लगातार 20 वर्ष तक बाबा बकाला में तपस्या की। गुरु गद्दी मिलने के बाद वह श्री आनंदपुर साहिब आ गए। सिखी के प्रचार के लिए वह रूपनगर, सैफाबाद होते हुए बनारस, पटना, असम आदि क्षेत्रों में गए। यहां उन्होंने अध्यात्मिक, सामाजिक, आर्थिक उन्नयन के लिए रचनात्मक कार्य किए,अंधविश्वासों की आलोचना कर नए आदर्श स्थापित किए।

योगी सरकार का बड़ा फैसला, कोरोना संक्रमितों को मुफ्त में मिलेगा रेमडेसिविर इंजेक्शन

धर्म की खातिर दिया बलिदान

गुरु तेग बहादुर जी का जो सर्वश्रेष्ठ व्यक्तित्व प्रभाव है वह है धैर्य और शांति। यह उनके जीवन की धरोहर रही है जिसकी वजह से उन्होंने 26 साल लगातार भक्ति की। जब गुरुत्व मिला और दुश्मनों ने भी वार किया तब भी उन्होंने शांति रखने के लिए आनंदपुर नगरी बसा दी। उसके बाद उन्होंने धर्म की खातिर बलिदान दिया। उन्होंने मौत के बारे में जो लिखा है उसका शायद ही कहीं वर्णन मिलता है। मौत को उन्होंने पानी के बुलबले की तरह बताया है।

https://www.youtube.com/watch?v=FP_khA27n4E

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *