Alert : FASTag हुआ अनिवार्य, 15 फरवरी से सरकार लगाएगी अतिरिक्त शुल्क

FASTag हुआ अनिवार्य
FASTag हुआ अनिवार्य

नई दिल्ली : भारत सरकार 15 फरवरी से देश में FASTag (फास्टैग) अनिवार्य हो रहा है। सड़क एवं परिवहन मंत्रालय ने जानकारी देते हुए बताया कि जिन वाहनों पर FASTag नहीं लगा है उनसे 15 फरवरी से अतिरिक्त शुल्क भी वसूला जाएगा। 15 फरवरी को फास्टैग खरीदने के लिए इस जगहों पर लंबी कतारें मिल सकती हैं। लेकिन अगर आपने वाहन के लिए फास्टैग नहीं लिया है तो उसे घर बैठे ऑनलाइन भी मंगवा सकते हैं।

FASTag हुआ अनिवार्य
FASTag हुआ अनिवार्य

ARMY DAY 2021|| आर्मी दिवस क्यों मनाया जाता है जाने रोचक तथ्य

यहां उपलब्ध है फास्टैग

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के अनुसार फास्टैग को सरकारी बैंक, निजी बैंक, पोस्ट ऑफिस, आरटीओ ऑफिस, ई-कॉमर्स वेबसाइट अमेजन, फ्लिपकार्ट, स्नैपडील और पेटीएम से खरीदा जा सकता है। पेट्रोल पंप से भी फास्टैग को खरीदा जा सकता है। बैंक से फास्टैग लेते समय इस बात का ध्यान रखें कि जिस बैंक में आपका खाता हो उसी से फास्टैग खरीदें।

FASTag हुआ अनिवार्य
FASTag हुआ अनिवार्य

भारत सरकार ने रद्द की सभी Domestic Air Flights

FASTag  की डेडलाइन 15 फरवरी 2021 तक बढ़ाई

एनएचएआई के अनुसार आप फास्टैग को किसी भी बैंक से 200 रुपये में खरीद सकते हैं। फास्टैग को आप कम से कम 100 रुपये से रिचार्ज करवा सकते हैं। सरकार ने बैंक और पेमेंट वॉलेट से रिचार्ज पर अपनी तरफ से कुछ अतिरिक्त चार्ज लगाने की छूट दी हुई है। बता दें कि सरकार फास्टैग को लागू करने की समय-सीमा कई बार बढ़ा चुकी है। वाहन मालिकों को थोड़ी राहत देते हुए देशभर में सभी चार पहिया वाहनों के लिए फास्टैग की डेडलाइन 15 फरवरी 2021 तक बढ़ाई गई है। इससे पहले NHAI की ओर से कहा गया था कि एक जनवरी से नगदी टोल कलेक्शन बंद हो जाएगा। लेकिन इसकी समयसीमा बढ़ाई गई है।

FASTag हुआ अनिवार्य
FASTag हुआ अनिवार्य

Fastag: यमुना एक्सप्रेसवे पर लागू होगा फास्टैग, नए साल में राहत की खबर

नए वाहनों के लिए रजिस्ट्रेशन के समय ही लगेगा FASTag 

मंत्रालय के आदेश के मुताबिक फिलहाल राष्ट्रीय राजमार्गों पर टोल प्लाजा की हाइब्रिड लेन में 15 फरवरी तक फास्टैग या नकद माध्यम से भुगतान किया जा सकेगा। मंत्रालय ने कहा कि टोल प्लाजा की फास्टैग लेन में केवल फास्टैग के माध्यम से ही भुगतान स्वीकार किया जाएगा। फास्टैग को एक दिसंबर 2017 के बाद से नए चार पहिया वाहनों के लिए रजिस्ट्रेशन के समय ही अनिवार्य कर दिया गया था। इस पूरे फैसले को लागू करने के लिए सरकार ने केंद्रीय मोटर वाहन अधिनियम-1989 में संशोधन किया था। दिसंबर तक 2.20 करोड़ से ज्यादा फास्टैग आवंटित किए जा चुके हैं। एक्सपर्ट्स का मानना है कि कोविड-19 के कारण लोग कॉन्टैक्ट लेस ट्रांजेक्शन को ज्यादा पसंद कर रहे हैं।

FASTag हुआ अनिवार्य
FASTag हुआ अनिवार्य

FasTag Update : RFID स्कैनर मशीन खराब है तो नही कटेगा टोल

फास्टैग से टोल कलेक्शन में हुआ इजाफा

आपको बता दें कि देशभर में फास्टैग का बंपर ट्रांजेक्शन 24 दिसंबर को हुआ। नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने बताया कि नेशनल इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन (NETC) प्रोग्राम के तहत यह पहली बार था जब एक दिन में फास्टैग से 80 करोड़ रुपये से ज्यादा का टोल कलेक्शन हुआ। 24 दिसंबर 2020 को एक दिन में 50 लाख से ज्यादा का फास्टैग ट्रांजेक्शन हुए।

Leave a comment

Your email address will not be published.