गाजीपुर के बाद नोएडा के चिल्ला बॉर्डर पर भी पहुंचे पंजाब के किसान

Farmers Protest at Chilla Border
Farmers Protest at Chilla Border

नई दिल्ली: चिल्ला बॉर्डर (Chilla Border) पर भारतीय किसान यूनियन के धरनास्थल पर शुक्रवार को पंजाब स्थित नवांशहर के 50 से अधिक किसानों ने डेरा डाल दिया है, पंजाब से आए इन किसानों का भानु गुट के प्रदेश अध्यक्ष योगेश प्रताप सिंह ने स्वागत किया।

Farmers Protest at Chilla Border
Farmers Protest at Chilla Border

बता दें कि यह किसान एक ट्रैक्टर ट्राली से धरनास्थल पर पहुंचे हैं, जो भारी मात्रा में राशन भी लेकर आए हैं, किसानों (Farmer) ने कहा कि 26 जनवरी को दिल्ली कूच के करने के बाद ही सरकार की आंखें खुलेंगी, दो दिन पहले ही धरनास्थल पर उत्तराखंड से भी भारी संख्या में किसान पहुंचे थे, जिन्होंने नानकमता साहिब गुरुद्वारा प्रबंध कमेटी की ओर से लंगर भी शुरू करा दिया है, इससे पहले लखीमपुर खीरी से सिख किसानों ने धरना स्थल पर पहुंचकर अपनी जगह बनाई है।

Farmers Protest at Chilla Border
Farmers Protest at Chilla Border

धरनास्थल पर किसानों ने लिया लाठी का प्रशिक्षण

चिल्ला बार्डर पर शुक्रवार को किसानों ने दिल्ली परेड की तैयारी को लेकर लाठी चलानी सीखी, इसके लिए लाठी प्रशिक्षक को बुलाया गाया था, इस दौरान चौधरी बीसी प्रधान ने कहा कि सरकार से अब आर पार की लड़ाई की जाएगी, इसरके लिए किसानों ने तैयाारी शुरू कर दी है, पहले 26 जनवरी को दिल्ली परेज में शामिल होंगे, इसके बाद आगे की रणनीति बनाई जाएगी।

Farmers Protest at Chilla Border
Farmers Protest at Chilla Border

किसान और केंद्रीय कृषि मंत्री के बीच वार्ता विफल होने पर लोकशक्ति के राष्ट्रिय अध्यक्ष चौधरी मास्टर श्यौराज सिंह ने कहा कि सरकार की नीयत में खोट हैं, अब या तो मरेंगे या फिर कानून वापस कराएंगे लेकिन पीछे नहीं हटेंगे, उन्होंने कहा कि धरना स्थल पर किसान महापंचायत के लिए आ रहे किसानों को सरकार रोक रही है, कासगंज और अलिगढ़ किसान यूनियन जिलाध्यक्षों को प्रशासन ने नजरबंद कर दिया है, यह सरकार का रवैया सही नहीं है।

Leave a comment

Your email address will not be published.