एटा में पुलिस ने पीड़िता के परिजनों को ही भेजा जेल, बालिका का नहीं कराया मेडिकल

etah-police-sent-victim-s-family-to-jail
etah-police-sent-victim-s-family-to-jail

एटा : मिशन शक्ति कार्यक्रम में सरकार महिलाओं के स्वावलंबन, स्वाभिमान और सम्मान के लिए अभियान चला रही है, वहीं खाकी वर्दी उसकी मंशा को पलीता लगा रही है। एक 14 वर्षीय बालिका के साथ कथित छेड़छाड़ के मामले में पुलिस ने आरोपी पर इतनी मेहरबानी की पहले उसका मेडिकल कराया, इसके बाद रिपोर्ट दर्ज कर पीड़ित पक्ष के चार लोगों का शांतिभंग में चालान कर दिया।

etah-police-sent-victim-s-family-to-jail
etah-police-sent-victim-s-family-to-jail

क्रॉस केस में अदालत ने भी माना कि पुलिस ने एंटी टाइम एफआईआर दर्ज की है। हालांकि आरोपी को कोर्ट ने जमानत दे दी है। अब पीड़ित पक्ष अदालत में विशेष प्रार्थनापत्र के साथ ही डीआईजी और डीजीपी से इस मामले में शिकायत दर्ज कराएगा।

चाचा ने की छेड़छाड़-

मामला पिछले माह जनवरी का है। थाना सकरौली क्षेत्र के एक गांव में 14 वर्षीय बालिका से उसी के चाचा ने उस समय छेड़छाड़ की जब वह गोबर डालने गई थी। बालिका के चिल्लाने पर आरोपी भाग गया। 26 जनवरी को जब आरोपी गांव आया तो पीड़ित के परिजनों ने उससे शिकायत दर्ज कराई। इस पर वह गाली-गलौज कर भाग गया। मामले की रिपोर्ट बालिका के पिता ने रणवीर सिंह के खिलाफ दर्ज कराई।

पुलिस ने पीड़ित परिवार के लोगों को भेजा जेल-

उप निरीक्षक राजेश कुमार हमराह रवि कुमार, दीपक कुमार के साथ गांव में आरोपी की गिरफ्तारी करने पहुंचे, वह घर पर नहीं मिला। इस पर एसआई पीड़ित के घर पहुंचे और बालिका के बयान दर्ज किए, बालिका ने अपने साथ हुई घटना की पुष्टि की। दर्ज एफआईआर में एसआई का कहना है कि इसी दौरान आरोपी रणवीर पीड़ित पक्ष के घर के सामने से गुजरा, इस पर पीड़ित परिवार ने उसे घेर लिया और मारपीट शुरू कर दी। इस पर पुलिस ने पॉक्सो एक्ट में पीड़ित परिवार के चार लोग अमर सिंह, जयवीर सिंह, अतिवीर सिंह और विनोद सिंह का धारा 151 में चालान कर जेल भेज दिया।

Leave a comment

Your email address will not be published.