उत्तराखंड : चमोली ग्लेशियर हादसे में 14 से ज्यादा लोगों की मौत, सुरंग में रेस्क्यू जारी

dehradun-city-rescue-team-is-removing-debris-from-the-tunnel-at-chamoli
dehradun-city-rescue-team-is-removing-debris-from-the-tunnel-at-chamoli

नई दिल्ली : चमोली के आपदा प्रभावित इलाकों में सेना, आइटीबीपी, एसएसबी और एसडीआरएफ की टीमें बचाव कार्य में जुटी हुई हैं। चमोली पुलिस के अनुसार, टनल में फंसे लोगों के लिए राहत एवं बचाव कार्य जारी। जेसीबी की मदद से टनल के अंदर पहुंच कर रास्ता खोलने का प्रयास किया जा रहा है। अब तक कुल 15 व्यक्तियों को रेस्क्यू किया गया है एवं 14 शव अलग-अलग स्थानों से बरामद किये गये हैं। वहीं अभी टनल में 30 लोग फंसे हुए हैं।

dehradun-city-rescue-team-is-removing-debris-from-the-tunnel-at-chamoli
dehradun-city-rescue-team-is-removing-debris-from-the-tunnel-at-chamoli

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उत्तराखंड प्रदेशवासियों को दी नई 108 एम्बुलेंस की सौगात

एक सुरंग से बचाया लोगों को

केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि यह एक बहुत ही मुश्किल स्थिति है, लेकिन आइटीबीपी ने सफलतापूर्वक एक सुरंग से लोगों को बचाया और अब वे दूसरी सुरंग पर काम कर रहे हैं, जो लगभग 3 किमी लंबी है। एनडीआरएफ और सेना भी इस काम में लगी है। दोपहर तक हम कुछ सकारात्मक परिणामों की उम्मीद कर सकते हैं।

उत्तराखंड: सोशल मीडिया पर देश के खिलाफ कुछ भी लिखा तो अब नहीं बनेगा पासपोर्ट

चमोली पुलिस ने दी ये जानकारी

उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि दहशत फैलाने की जरूरत नहीं। ग्लेशियर कल टूटा था। बोल्डर और मलबे ने तपोवन पर बड़े पैमाने पर रैणी बिजली परियोजना को नुकसान पहुंचाया। यह सब कल हुआ। दो परियोजना से 121 लोग लापता हैं। चमोली पुलिस ने बताया कि सुरंग में फंसे लोगों को बचाने का ऑपरेशन चल रहा है। जेसीबी मशीन की मदद से सुरंग को साफ करने के प्रयास जारी हैं। कुल 15 लोगों को बचाया गया है और 14 शव अब तक विभिन्न स्थानों से बरामद किए गए हैं।

dehradun-city-rescue-team-is-removing-debris-from-the-tunnel-at-chamoli
dehradun-city-rescue-team-is-removing-debris-from-the-tunnel-at-chamoli

बचाव कार्य जारी

आपदा में सडक पुल बह जाने के कारण नीति वैली के जिन 13 गांवों से संपर्क टूट गया है उन गांवों में जिला प्रशासन चमोली द्वारा हैलीकॉप्टर के माध्यम से राशन, मेडिकल एवं रोजमर्रा की चीजें पहुंचायी जा रही है। डीएम ने कहा कि जब तक यहां पर वैकल्पिक व्यवस्था या पुल तैयार नहीं हो जाता तब तक हैली सेवा से यहां पर रसद पहुंचाया जाएगा।

Leave a comment

Your email address will not be published.