इंस्टाग्राम के जरिए नाबालिग को फंसा कर ड्रग्स और रेप करने वाले गैंग का भांड़ाभोड़

crime news
crime news

नई दिल्ली : केरल के मलप्पुरम जिला से एक दिल दहला देने वाली खबर सामने आ रही है, जी हां दरअसल यहां की चाइल्डलाइन संस्था ने मात्र 14 साल की एक ऐसी बच्ची को रेसक्यू किया है, जिसे इंस्टाग्राम के सहारे ड्रग्स देकर उसके घर में ही महीनों से उसका रेप किया जा रहा था।

crime news
crime news

ऑनलाइन सोशल मीडिया गैंग

हम आए दिन देशभर में ऐसे हैरान कर देने वाले किस्सों के बारे में सुनते हैं परन्तु यहां चौंकाने वाली बात ये है कि ये सब कुछ लोगों ने एक ऑनलाइन सोशल मीडिया गैंग बना कर किया, इस गैंग के लोग स्कूल जाने वाली लड़िकियों को इंस्ट्राग्राम के सहारे फंसाते थे, फिर इन लड़कियों को नशे की लत लगाई जाती है फिर उसके बाद इन लड़कियों के साथ यौन शोषण किया जाता है।

स्कूल से घर लौट रही छात्रा के साथ गांव के ही तीन लोगों ने किया गैंगरेप

लोगों का विरोध करना शुरु

आपको बता दें कि जिस लड़की को बचाया गया वह एक अच्छे खासे परिवार से ताल्लुक रखती है, इस मामले की गंभीरता को इस बात से समझा जा सकता है कि आरोपी लड़की को उसके घर जाकर ड्रग्स और कोकीन जैसे न बल्कि नशीले पदार्थ दे रहे थे।  इसके साथ ही यह लोग लडकी के घर में उसका रेप भी कर रहे थे। डराने वाली बात यह है कि इन लोगों के लिए चुपचाप लड़की ही रात को घर का गेट खोलती थी। बाद में लड़की ने इन लोगों का विरोध करना शुरु किया तो इन लोगों ने उसको जान से मारने की धमकी भी दी थी और कहा था कि वह उन लोगों का नाम न ले।

crime news
crime news

केरल में योगी ने ‘लव जिहाद’ के मुद्दे को छेड़ा , कहा- केरल को BJP की आवश्यकता

अपराधियों की पहचान

हालांकि अब लड़की ने इस गैंग के सात अपराधियों की पहचान कर ली गई है। जिसमें से अभी भी 6 अपराधी फरार हैं और 1 को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। फिलहाल बच्ची इस समय बाल संरक्षण आयोग की देखरेख में है। वहीं इसके बाद आयोग के चेयरमैन शदेश भास्कर ने कहा है हम लड़की की देखभाल कर रहे हैं। वह कहते हैं कि हमने लड़की की सुरक्षा और स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए नशा मुक्ति टीम से बात कर रहे हैं ताकि लड़की को इससे बाहर निकाला जा सके। इसके अलावा उन्होंने लड़की की हालात के लिए शहर में महिला सुरक्षा का ध्यान रखने वाले और पुलिस की लापरवाही की भी आलोचना की है।

 

Leave a comment

Your email address will not be published.