तांत्रिक के चक्कर में पड़ोस के मासूम बेटे की चढ़ा दी बलि, पुलिस ने किया गिरफ्तार

crime news
crime news

नई दिल्ली। देश की राजधानी में बच्चे की चाह में एक महिला ने अंधविश्वास और तांत्रिक के चक्कर में पड़कर पड़ोसी के तीन साल के बेटे की गला दबाकर हत्या कर दी। महिला ने बच्चे के शव को बोरे में बंद कर उसे पड़ोसी की छत पर फेंक दिया। पुलिस ने छानबीन करने के बाद छत से बच्चे के शव को बरामद कर लिया और छानबीन कर महिला को गिरफ्तार कर लिया।

तांत्रिक
तांत्रिक

Delhi Crime: एक थप्पड़ जो मारा तो चाकुओं से कर डाले अनगिनत वार

बच्चे की दी बलि

बताया जा रहा है की जांच आरोपी महिला की शादी के आठ साल होने के बाद भी महिला को कोई बच्चा नहीं है। इसके लिए उसने हरदोई में एक तांत्रिक से मुलाकात कर उपाए पुछे। तांत्रिक ने उसे एक बच्चे की बलि देने के लिए कहा था। उसके बाद उसने अपने पड़ोसी के बच्चे की बलि देने का फैसला किया। वह मृत बच्चा और उसके परिवार से रोज मिलती थी।  बच्चा भी कई बार उनके घर पर आया करता था। लेकिन जब शनिवार को उसने पीयूष को छत पर अकेला देखा, तभी वह उसे अपने साथ कमरे में ले गई और पूजा करने के बाद उसका गला घोंट दिया।

तांत्रिक
तांत्रिक

तांत्रिक के चक्कर में

आपको बता दें आरोपी महिला नीलम ने बताया कि वर्ष 2013 में उसकी शादी पंकज से हुई थीन। काफी साल तक उसे बच्चा पैदा नहीं हुआ। जिसकी वजह से ससुराल वाले उसे ताने देने लगे। वह मानसिक रूप से काफी परेशान रहने लगी थी। काफी इलाज करवाने के बाद भी बच्चा नहीं हुआ। एक तांत्रिक से मुलाकात की थी। जिसने उसे अपना बच्चा पाने के लिए एक बच्चे की बलि देने का सुझाव दिया।

2 फ़ीट के इस दूल्हे को अपनी दुल्हन का इंतज़ार, थाने जाकर लगाई शादी की गुहार

महिला हिरासत में 

शव मिलने के बाद पुलिस को पांचवीं मंजिल पर रहने वाले लोगों पर शक हुआ। एक एक घर की तलाशी ली। नीलम के घर की तलाशी के दौरान पुलिस को पूजा पाठ किए जाने की साक्ष्य मिले। आस पास के लोगों से उसके बारे में पता चला कि शादी के काफी अरसे बीत जाने के बाद भी उसे बच्चा नहीं है। जिससे शक और गहरा गया। पुलिस ने पहले उसके पति से पूछताछ की गई। जिसमें पता चला कि बच्चा नहीं होने से वह काफी परेशान रहती है। पुलिस ने शक के आधार पर महिला को हिरासत में लिया। जिसने बच्चे की हत्या करने का खुलासा हुआ।

https://www.youtube.com/watch?v=wCW0JwAy6-M

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *