राजस्थान : कोटा रेल यात्रियों की सुरक्षा के लिए शुरू हुआ कलर लाइट सिस्टम

kota railway
kota railway

नई दिल्लीः कोरोना महामारी की आपदा को अवसर में बदलते हुए पश्चिम मध्य रेलवे में कलर लाइट सिस्टम शुरू किया गया है, कोटा के वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक अजय कुमार पाल ने बताया कि इस उच्च तकनीकी एवं संपूर्ण सुरक्षित प्रणाली के सिग्नल लगने से ट्रेनों की सुरक्षा एवं संरक्षा में गुणात्मक सुधार होगा। पश्चिम मध्य रेलवे के सभी रूटों पर शत प्रतिशत कलर सिग्नल लाइट शुरू करने वाले जोन की अग्रिम पंक्ति में शामिल हो गया।

राजस्थान में कोरोना वैक्सीन की बर्बादी, केंद्रीय मंत्री गजेंद्र शेखावत ने उठाए सवाल

कलर लाइट सिग्नल

प्रबंधक अजय कुमार ने बताया कि कलर लाइट सिग्नल की रात के समय दृश्यता अधिक होती है। इस कारण ये ट्रेन चालकों को काफी दूर से और स्पष्ट दिखाई देते हैं। इससे वे अपनी ट्रेनों की गति को जरूरत के अनुसार नियंत्रित कर सकते हैं। यहां तक की प्रतिकूल मौसम एवं कोहरे के समय में भी चालक को कलर लाइट सिग्नल आसानी से दूर से दिख सकते हैं।

देश में कोरोना के नए मामलों में भारी गिरावट, यहां जानें ताजा आंकड़े

कोटा रेलवे अस्पताल

गौरतलब है कि सिग्नल सिस्टम सहीं नहीं होने के कारण कई बार रेल दुर्घटनाएं होती है। बता दें की कलर लाइट सिग्नल प्रणाली अन्य दूसरी प्रणालियों की तुलना में अधिक सुरक्षित होती है। इस दौरान मानवीय भूल की संभावना बिल्कुल कम होती है। और इस तरह हादसों पर भी रोक लगायी जा सकेगी। इसके साथ ही देश के 52 रेलवे अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगाए जाएंगे। ये सभी प्लांट रेलवे के बड़े अस्पतालों में लगाए जाएंगे। प्रत्येक प्लांट पर 50 लाख रूपए खर्च होंगे।

चीन ने वुहान लैब में बनाया कोरोना वायरस, एक बार फिर हुआ साबित

इसके तहत कोटा के रेलवे अस्पताल में सभी 104 बेड पर पाइपलाइन से ऑक्सीजन पहुंचाने को लेकर सभी आवश्यक प्रबंध किए जा रहे हैं। सेंट्रल ऑक्सीजन सिस्टम लगाया जाएगा। जिससे वार्डों में सिलेंडर रखने को लेकर परेशानी नहीं हो।

 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *