China : गलवन में मारे गए चीनी सैनिकों पर किया पोस्ट तो ब्लॉगर को किया गिरफ्तार

china-charges-blogger-over-posts-on-casualties-in-galwan-clash-with-india
china-charges-blogger-over-posts-on-casualties-in-galwan-clash-with-india

नई दिल्ली : चीन की कम्युनिस्ट सरकार लंबे समय से अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का दमन करती आ रही है। इसका ताजा उदाहरण उस समय देखने को मिला जब एक ब्लॉगर ने भारत के साथ झड़प में मारे गए चीनी सैनिकों के संबंध में पोस्ट किया। इसके बाद शी चिनफिंग सरकार ने ब्लॉगर पर सैनिकों को बदनाम करने और समाज पर नकारात्मक प्रभाव डालने का आरोप लगाया है।

china-charges-blogger-over-posts-on-casualties-in-galwan-clash-with-india
china-charges-blogger-over-posts-on-casualties-in-galwan-clash-with-india

मारे गए इतने चीनी सैनिक

38 वर्षीय की जिमिंग के चीन के ट्विटर जैसे प्लेटफॉर्म वीबो पर 25 लाख से अधिक फॉलोअर्स हैं। उन्होंने गलवन घाटी संघर्ष से जुड़े दो पोस्ट किए थे। संघर्ष के दौरान मौके पर मौजूद सबसे उच्च अधिकारी के बचने को लेकर जहां उन्होंने सवालिया निशाना उठाया था, वहीं यह भी कहा था कि हो सकता है कि इस संघर्ष में और भी सैनिक मारे गए हों। बता दें कि अभी हाल ही में चीन ने आधिकारिक रूप से स्वीकार किया था कि गलवन घाटी संघर्ष के दौरान उसके चार सैनिक मारे गए थे। हालांकि रूसी समाचार एजेंसी ने 45 से अधिक चीनी सैनिकों के मारे जाने की बात कही है।

ब्लॉगर को किया गिरफ्तार

पूर्वी चीनी शहर नानजिंग में पुलिस ने की जिमिंग को पिछले महीने हिरासत में लिया था। इस दौरान नानजिंग ब्यूरो ऑफ पब्लिक सिक्योरिटी ने कहा कि उन्हें झूठी सूचना पोस्‍ट करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। चीनी कम्युनिस्ट सरकार पर अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का दमन करने का आरोप लगता रहा है। पिछले कुछ सालों में ऐसे भी मामले सामने आए हैं कि सरकार की आलोचना करने वाले लोग अचानक गायब हो जाते हैं। उनकी कोई खोज-खबर नहीं मिलती।

Leave a comment

Your email address will not be published.