रक्षामंत्री राजनाथ सिंह से वार्तालाप के बाद किसानों के एक गुट ने खोला चिल्ला बॉर्डर

chilla border opened
chilla border opened

नई दिल्‍ली: किसानों ने 12 तारीख को देश की सभी टोल प्लाजा पर कब्ज़ा कर लिया था. किसान नेताओं ने शनिवार को नए कृषि कानूनों के वापसी की मांग को लेकर आंदोलन को और तेज करने का एलान किया है। किसानों ने कहा है कि वह 14 तारीख को अनशन पर बैठेंगे। इस बीच किसानों ने कई टोल प्‍लाजा पर कब्‍जा कर लिया है और कई दूसरी सड़कें जाम करने की चेतावनी दी है। किसान यूनियन के नेताओं ने बताया कि हमने आंदोलन को और तेज करने का फैसला किया है। राजस्थान के शाहजहांपुर के किसान रविवार को सुबह 11 बजे जयपुर-दिल्ली राजमार्ग के जरिए ‘दिल्ली चलो’ मार्च शुरू करेंगे।

चिल्‍ला बार्डर खोला-

इस बीच किसानों ने वाहनों की आवाजाही के लिए चिल्‍ला बार्डर खोल दिया है। मौके पर मौजूद किसानों ने कहा कि हमारे नेताओं ने शनिवार को कृषि मंत्री और रक्षा मंत्री से मुलाकात की। सरकार ने कहा है कि वह हमारी मांगे मानेगी इसलिए हमने सड़क खोली है। मालूम हो कि नोएडा-दिल्ली का चिल्‍ला बार्डर पिछले 12 दिन से धरना प्रदर्शन के कारण बंद था। हालांकि सिघु बॉर्डर पर मौजूद किसान अभी भी कृषि कानूनों की वापसी की मांग पर अड़े हुए हैं। पढ़ें पूरी रिपोर्ट- अब दिल्‍ली आने-जाने वालों को होगी आसानी.

chilla border opened
chilla border opened

जयपुर-दिल्ली सड़क करेंगे जाम-

वहीं किसानों के एक अलग गुट के नेता कमल प्रीत सिंह पन्नू ने कहा कि सभी किसान संगठनों के प्रतिनिधि और अध्यक्ष मंच पर 14 तारीख को अनशन पर बैठेंगे। हम अपनी माताओं और बहनों से भी इस आंदोलन में शामिल होने की अपील करते हैं। कल रविवार को 11 बजे जयपुर-दिल्ली सड़क को जाम करने के लिए हजारों किसान ‘दिल्ली चलो’ ट्रैक्टर मार्च करेंगे।

बंद होगा पलवल-जयपुर रोड- 

वहीं दिल्ली बुराड़ी निरंकारी ग्राउंड से राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अखिल भारतीय महासभा प्रेम सिंह गहलावत ने कहा कि पलवल और जयपुर रोड को जयपुर से आए संगठन बंद करेंगे। किसान अंबानी और अडानी के माल पर भी धरना देंगे। सभी किसानों ने जिओ सिम और जिओ फोन का बहिष्कार किया है। उन्‍होंने कहा कि किसान हरियाणा के टोल नाके फ्री कराएंगे।

आंदोलन उग्र होता देख बढ़ाई गई सुरक्षा-

किसानों के तेज होते विरोध प्रदर्शन को देखते हुए उत्‍तर प्रदेश में टोल प्लाजा नाकों पर सुरक्षा बल तैनात कर दिए गए हैं। यही नहीं सिघू बॉर्डर पर भी सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। उत्‍तर प्रदेश के एडीजी कानून व्‍यवस्‍था ने कहा है कि अभी तक किसानों का आंदोलन शांतिपूर्ण रहा है लेकिन शरारती तत्व अव्यवस्था न फैलाए इसलिए कड़ी नजर रखी जा रही है।

बिहार में जागरूकता रैलियां-

उधर बिहार भाजपा अध्यक्ष संजय जायसवाल ने कहा कि पार्टी ने तय किया है कि हम तीनों कानूनों के समर्थन में पूरे बिहार में रैलियां करेंगे। हम 38 ज़िलों में बड़ी किसानों की रैली और सम्मेलन करेंगे। 243 विधानसभा क्षेत्रों में किसान चौपाल लगाएंगे। इसकी शुरुआत शनिवार को बख्तियारपुर से मैं और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद करेंगे। समापन 25 दिसंबर को माननीय अटल बिहारी वाजपेयी जी के सुशासन दिवस के दिन होगा…

Leave a comment

Your email address will not be published.