कल से छठ पर्व शुरू, जानिए छठी मइया के बारे में खास बातें और शुभ मुहूर्त

Chhath puja 2020 Muhurat
Chhath puja 2020 Muhurat

नई दिल्ली :  नहाय-खाय के साथ बुधवार से चार दिवसीय लोक आस्था का महापर्व छठ आरंभ हो जाएगा, छठ पर्व 18 नवंबर से 21 नवंबर तक चलेगा छठी मइया को अर्घ्य देने के लिए भक्त 20 नवंबर की शाम पानी में उतरेंगे. इसके बाद 21 नवंबर की सुबह उगते हुए सूरज को अर्घ्य देकर छठ पूजा  का समापन किया जाएगा. छठ पर्व की शुरुआत नहाए-खाए  से 18 नवंबर से होगी, इसके बाद 19 नवंबर को खरना या लोहंडा मनाया जाएगा. इस दिन बेहद ही स्वादिष्ट गन्ने की रस की खीर बनाई जाती है. इसके बाद प्रसाद के भरी बांस की टोकरी जिसे दउरा या दौरा भी कहा जाता है ।

Chhath puja 2020 Muhurat
Chhath puja 2020 Muhurat

दीपावली, कालीपूजा के समापन होते ही छठी मइया की पारंपरिक गीत घर आंगन में गुंजने लगी है। गुरुवार पर्व के दूसरे दिन खरना होगा।  वहीं शुक्रवार को अस्ताचल गामी सूर्य देव को पहला भक्‍तजन पहला अर्घ्‍य  और शनिवार को उदयीमान सूर्य को दूसरा अर्घ्‍य देंगे। इसके साथ ही चार दिवसीय महापर्व पूर्ण हो जाएगा। इसकी तैयारी अंतिम चरण में है। मंगलवार से ही पूजा बाजार छठ पर्व की पूजन सामग्रियों से पटा हुआ है। बड़ी संख्‍या में लोग गंगा स्‍नान के बाद बाजार से कद्दू खरीद कर ले जा रहे हैं। इस बार बाजार में कददू की कीमत 30 से 40 रूपये प्रति पीस बिक रहा है। सबौर, नाथनगर, तिलकामांझी, सिंकदरपुर बाजारों में पर्याप्‍त मात्रा में कददू उपलब्‍ध है ।

Chhath puja 2020 Muhurat
Chhath puja 2020 Muhurat

 

छठ पर्व की तारीख (Chhath puja 2020 Muhurat)

18 नवंबर 2020 बुधवार- नहाय-खाय
19 नवंबर 2020 बुधवार- खरना
20 नवंबर 2020 बुधवार- डूबते सूर्य का अर्घ्य
21 नवंबर 2020 बुधवार- उगते सूर्य का अर्घ्य

 

Chhath puja 2020 Muhurat
Chhath puja 2020 Muhurat

छठ पूजा का वैज्ञानिक महत्व
यह बात सभी को मालूम है कि सूरज की किरणों से शरीर को विटामिन डी मिलती है और उगते सूर्य की किरणों के फायदेमंद और कुछ भी नहीं. इसीलिए सदियों से सूर्य नमस्कार को बहुत लाभकारी बताया गया. वहीं, प्रिज्म के सिद्धांत के मुताबिक सुबह की सूरत की रोशनी से मिलने वाले विटामिन डी से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बेहतर होती है और स्किन से जुड़ी सभी परेशानियां खत्म हो जाती हैं ।

Leave a comment

Your email address will not be published.