गौतमबुद्ध नगर पंचायत चुनाव- आरक्षण सूची जारी, जानिए अपने वार्ड ग्राम की स्थिति

bulandshahr/panchayat-election-bulandshahr-news
bulandshahr/panchayat-election-bulandshahr-news

नोएडा : त्रिस्तरीय यूपी पंचायत चुनाव की नई आरक्षण लिस्ट शानिवार को जारी हो गई है। जारी हुई नई लिस्ट में काफी उलट फेर देखने को मिल रहा है। जिसके चलते कई चेहरे खिले हुए नजर आ रहे हैं तो वहीं कई चेहरे उदास नजर आ रहे हैं। जिनको उम्मीद थी कि उनकी सीट नहीं बदलेगी वह भी बदलती नजर आई है।

bulandshahr/panchayat-election-bulandshahr-news
bulandshahr/panchayat-election-bulandshahr-news

UP पंचायत चुनाव में आरक्षण सूची का मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, जानिए पूरा मामला
यह आरक्षण वर्ष 2015 में तैयार किए गए आरक्षण के आधार और वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार तैयार किया गया है। शनिवार रात को अलग-अलग पदों के लिए जारी हुई आरक्षण सूची नेे दावेदारों के बीच खलबली मचा दी है। सभी पदों पर व्यापक उलटफेर देखने को मिला है।

bisrakh pradhan list

dadari

इतनी सीटों को किया गया आरक्षित

जनपद में 951 ग्राम प्रधानों का आरक्षण जारी किया गया है, जबकि चुनाव 946 पदों पर लड़ा जाएगा। पांच ग्राम पंचायत गत दिनों गौतमबुद्धनगर में शामिल हो चुकी है, जबकि जिला पंचायत के 52 पदों और ब्लॉक प्रमुख के 16 पदों का भी आरक्षण जारी हो गया है। इसी तरह 1315 क्षेत्र पंचायत सदस्य और 12147 वार्ड सदस्यों के पदों पर भी चुनाव लड़ा जाएगा। जिला पंचायत राज अधिकारी नन्दलाल ने बताया कि जनपद में नए फार्मूले से जारी किए गए आरक्षण में आधे से अधिक सीटों पर बदलाव हुआ है। जिला प्रशासन की ओर से शनिवार को जारी आरक्षण की अनंतिम सूची के बाद अब 23 मार्च तक आपत्तियां और दावे किए जा सकेंगे। आपत्ति व दावे संबंधित ब्लॉक, जिला पंचायत कार्यालय और डीपीआरओ कार्यालय में दर्ज कराए जा सकते हैं। 24 और 25 मार्च को डीएम की अध्यक्षता वाली टीम की ओर से आपत्तियों का निस्तारण किया जाएगा। इसके बाद 26 मार्च को आरक्षण की अनंतिम प्र्रकाशन कर दिया जाएगा।

Corona : देश में मिल रहे रिकॉर्डतोड़ केस, डॉक्टरों की छुट्टी हुई कैंसिल तो कहीं सीमाएं कर दी सील

322 गाँवों में महिलाओं को प्रधानी का मौका

जनपद में आरक्षण 951 ग्राम पंचायतों का जारी किया गया है। इसके अनुसार 322 गांवों में महिलाओं को प्रधान बनाने के लिए मौका दिया जा रहा है। इनमें अनुसूचित जाति की 73, ओबीसी की 92 और 157 सीट महिलाओं के लिए आरक्षित की गई हैं, जबकि अनुसूचित जाति के पुरुषों के लिए 130 और ओबीसी के लिए 164 सीट निर्धारित की गई है। पहले बनाए गए आरक्षण में भी महिलाओं के लिए इतनी ही सीटों पर आरक्षण के अनुसार चुनाव लड़ने का मिला था। इसी तरह 335 सीटें अनारक्षित हैं, जबकि शेष सीट अनुसूचित जाति और ओबीएस के लिए आरक्षित की गई हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *