मेरठ: भैंस की तेरहवीं पर पूरे गांव को दी दावत, खिलाया प्रसाद

buffalo food pray in meerut
buffalo food pray in meerut

नई दिल्लीः हाल ही में उत्तर प्रदेश के मेरठ से एक अनोखी खबर सामने आयी है. जिसमें भैंस की तेरहवीं आयोजित की जा रही है. और इस मौके पर पूरे गांव को तेरहवीं की दावत दी गई है. साथ ही पूरे विधि-विधान से सभी ग्रामीणों ने भैंस को श्रद्धांजलि दी।

buffalo food pray in meerut
buffalo food pray in meerut

सुभाष के लिए बेहद खास थी उनकी भैंस-

दरअसल मोहम्मद शाकिस्त गांव के रहने वाले सुभाष पेशे से किसान हैं, और इन्होंने पिछले 32 साल से एक ही भैंस पाली हुई थी. सुभाष ने बचपन से ही इस भैंस को पाला था. इसलिए उन्हें इससे खास लगाव था और इसे कभी नहीं बेचा. भैंस ने काफी समय से दूध देना बंद कर दिया था. भैंस के इलाज के लिए सुभाष ने काफी पैसे भी खर्च किये. लेकिन वो अपनी इस भैंस को बचा नहीं सके।

buffalo food pray in meerut
buffalo food pray in meerut

पूरे गांव को खिलाया तेरहवीं का प्रसाद-

बता दें की यह अनूठी तेरहवीं पूरे इलाके में चर्चा का विषय बनी हुई है. भैंस की मौत के बाद सुभाष के परिवार ने ढोल, नगाड़े के साथ उसे अंतिम विदाई दी गई. साथ ही उसकी तेरहवीं के लिए बकायदा टेंट, हलवाई लगाया गया और पूरे गांव को तेरहवीं का प्रसाद खिलाया गया. साथ ही भैंस के लिए एक श्रद्धांजलि सभा का आयोजन भी किया गया।

buffalo food pray in meerut
buffalo food pray in meerut

भैंस की आत्मा की शांति के लिए हुई प्रार्थना-

तेरहवीं में ग्रामीणों ने फोटो पर फूल माला चढ़ाकर भैंस की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की. इस मौके पर किसान सुभाष ने बताया कि वो अपनी भैंस को अपने परिवार के सदस्य की तरह ही मानते थे. लिहाजा उन्होंने अपनी भैंस के मरने के बाद उसकी आत्मा की शांति के लिए हर कर्मकांड भी किया जिससे उसको शांति मिले।

Leave a comment

Your email address will not be published.