ब्रिटेन के कोरोना वायरस से चिंता का माहौल, जानें इसकी तेजी और भारत में प्रभाव

britain corona in india
britain corona in india

नई दिल्ली : दुनिया भर में कई देशों में ब्रिटेन यात्रा प्रतिबंधित कर दी गई है यूनाइटेड किंगडम में फ़ैल रही महामारी SARS-CoV-2 कोरोना वायरस के एक नये संस्करण के तेजी से फैलने के कारण पिछले सप्ताह, भारत ने 31 दिसंबर तक UK जाने आने वाली सभी उड़ानें रद कर दी हैं. नए संस्करण की चिंताओं के चलते दक्षिण एवं पूर्वी इंग्लैंड में तेजी से बढ़ते कोविद मामलों के पीछे नए SARS-CoV-2 संस्करण को मुख्य कारण बताया गया हैI

britain corona in india
britain corona in india

14 दिसंबर को UK के स्वास्थ सचिव मैट हैनकॉक ने हाउस ऑफ़ कॉमन्स को यह बताते हुए कहा कि UK के अधिकारियों ने पहले ही विश्व स्वास्थ्य संगठन को वेरिएंट के विषय में सूचित कर दिया है, कहा,’पिछले कुछ दिनों में, हमने कोरोना वायरस के एक नए संस्करण की पहचान की है, जो इंग्लैंड के दक्षिण में तेजी से फैलता दिख रहा है।

पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड (PHE) की नए संस्करण पर घोषणा-

पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड (PHE) की घोषणा के तहत इस संस्करण के 1,108 मामलों की पहचान 13 दिसंबर को की गयी है I मुख्यतः इंग्लैंड के दक्षिण एवं पूर्व में बताया गया कि PHE आने वाले दो सप्ताह में अपना रुझाव प्रस्तुत करेगा I वह इस नए संस्करण पर अपनी योजना के तहत काम में जुटे हुए हैं I

भारत में घबराने की ज़रूरत नहीं-

भारत सरकार के अनुसार, ब्रिटेन में तेजी से फ़ैल रहे नए कोरोना वायरस के वेरिएंट से घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है I नीति आयोग के मेंबर्स और वैक्सीन पर गठित टास्क फाॅर्स के सह प्रमुख डॉ. वीके पॉल के अनुसार नया वेरिएंट तेजी से फैलता जरूर है, लेकिन इससे अब तक मरीजों के गंभीर रूप से बीमार होने या आधीक समय तक अस्पताल में भर्ती रहने या अधिक मौत होने जैसे संकेत नहीं मिले हैं I उनका कहना है वायरस के स्वरूप परिवर्तन के बावजूद वैक्सीन के फायदे और उसके वितरण के प्लान पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

Leave a comment

Your email address will not be published.