Barsana Holi 2021 : जानें ब्रज में कितने प्रकार की होली मनाई जाती है

Barsana Holi 2021
Barsana Holi 2021

नई दिल्ली: Barsana Holi 2021-ब्रज की होली पूरे विश्वभर में प्रसिद्ध है. हर साल यहां होली केवल रंग लगाकर ही नहीं बल्कि और कई प्रकार से इस उत्सव को हर्षो उल्लास के साथ मनाया जाता है। ब्रज में होली नए फसल के आने की खुशी में भी मनाई जाती है। ब्रज क्षेत्र में होली का अपना एक अलग ही विशेष महत्व है। आपको ये जानकार हैरानी होगी की होली का त्योहार ब्रज में एक-दो दिन नहीं बल्कि हफ्ते भर तक मनाया जाता है। तो चलिए जानते हैं ब्रज क्षेत्र में मनाई जाने वाली प्रमुख प्रकार की होलियों के बारे में।

Barsana Holi 2021
Barsana Holi 2021

रंगों की होली

ब्रज में होली त्यौहार की बात ही कुछ अनूठी है। होली का त्योहार यहां एक महीने पहले से ही शुरू हो जाता है, जो की होली के बाद भी हफ्ते भर तक चलता है। हर साल ब्रज में ब्रजवासियों को भक्ति के रंग में रंगने वाली होली को रंगों की होली कहते हैं। इस दिन लोग एक-दूसरे के रंग लगाकर गिले-शिकवे दूर करते हैं। ब्रज की होली में सिर्फ कान्हा ही नहीं बल्कि कान्हा नगरी का कोना-कोना रंगों से सराबोर हो उठता है। ढोलक की थाप और मजीरों की झनकारों के बीच, ब्रज में होली के गीत भी फिजाओ में गूंजते है। जिसके आनंद का कोई वर्णन ही नहीं है।

Holi Special 2021: इन बातों का रखें खास ख्याल, होली होगी और भी मजेदार

Barsana Holi 2021
Barsana Holi 2021

लट्ठमार होली

कृष्ण की नगरी नंदगांव, बरसाना, मथुरा और वृंदावन में रंगों की होली के साथ-साथ लट्ठमार होली भी खेली जाती है। इस लट्ठमार होली को देखने के लिए विदेशों से लोग ब्रज में आते हैं और इस सुंदर नजारे को लुत्फ़ उठाते हैं। बरसाने की लट्ठमार होली फाल्गुन मास की शुक्ल पक्ष की नवमी को मनाई जाती है। इस दिन नंदगांव के ग्वाल बाल होली खेलने के लिए राधा रानी के गांव बरसाने जाते हैं। और बरसाना गांव के लोग नंदगांव में जाते हैं। इन पुरूषों को हुरियारे कहते हैं। इस होली की खासियत ये है कि इसमें औरतें मर्दों को लट्ठ मारती हैं, और वो भी पूरे जोश में। तो वहीँ मर्द बचने के लिए ढाल का इस्तेमाल करते हैं, और भागते फिरते हैं।

होली मनाने के लिए मोदी सरकार दे रही है हज़ारों रुपये, इस तरह उठा सकते हैं फायदा

Barsana Holi 2021
Barsana Holi 2021

लड्डुओं की होली

आधुनिकता से अलग एक समाज , जहाँ गायन, होली के रसियाओं पर थिरकते सिर पर पगड़ी बांधे ग्वाल-बाल, बगलबंदी पहनी गोपियों की हंसी-ठिठोली, लजाते हुए उनका लाठियां बरसाना ये सब देखकर ऐसा लगता है कि यह द्वापर युग ही है। आपको बता दें की ब्रज में लड्डुओं की भी होली खेली जाती है।शायद आपको जानकर हैरानी हो, पर ये परंपरा द्वापर युग से चली आ रही है. कहा जाता है कि द्वापर में बरसाने से होली खेलने का आमंत्रण लेकर सखी नंदगांव गई थीं.

 

Barsana Holi 2021
Barsana Holi 2021

फूलों की होली

होली का त्योहार पूरे देश में 29 मार्च को मनाया जाएगा लेकिन इसकी शुरुआत मथुरा के रमणरेती से होगी। रमण रेती में भगवान श्रीकृष्ण और राधारानी अपने भक्तों संग होली खेलते हैं। माना जाता है कि भगवान श्री कृष्ण ने होली मानाने की शुरूआत इसी स्थान से की थी । इसलिए ब्रज में सबसे पहली होली का शुभारम्भ रमणरेती में होता है। यहां पर श्रीकृष्ण राधा के साथ फूलों की होली खेलते हैं।

Barsana Holi 2021
Barsana Holi 2021

दुलहंडी होली

हरियाणा समेत पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मनाई जाने वाली होली भी बरसाने की लट्ठमार होली जैसी ही होती है। फर्क सिर्फ इतना है कि यहां देवर, भाभी को रंगने की कोशिश करता है। और बदले में भाभी देवर को दुपट्टे से बनाए गए कोड़े से पीटती हैं। इसी इस होली को ‘दुल्हंदी’ भी कहते हैं।

Barsana Holi 2021
Barsana Holi 2021

कीचड़ की होली

होली रंगों का त्योहार है यह तो सभी जानते हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि कई जगहों पर गोबर और कीचड़ की भी होली खेली जाती है। सात दिन चलने वाले इस त्योहार के अंतिम दिन कीचड़ की होली खेलने के बाद इस पर्व का अंत होता है।

https://www.youtube.com/watch?v=GNuKRgkOsNQ

 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *