सोशल मीडिया पर शेयर न करें अपना वैक्‍सीनेशन सर्टिफिकेट, जानें नुकसान

नई दिल्लीः आजकल लोग वैक्सीन लेने के बाद वैक्‍सीन की स‍र्टिफिकेट इंटरनेट मीडिया पर शेयर भी कर रहे हैं। लेकिन आपको यह जानना जरूरी है कि वैक्‍सीन की स‍र्टिफिकेट इंटरनेट मीडिया पर शेयर करना महंगा पड़ सकता है। इस संबंध में झारखंड पुलिस के साइबर दोस्‍त ने भी लोगों को चेतावनी दी है।कहा है कि इंटननेट मीडिया पर #vaccination certificate को शेयर करने में सावधान रहें।

इस पोर्टल पर जारी होगा कोरोना के कारण अनाथ हुए बच्चों का आंकड़ा, जानें

वैक्‍सीनेशन सर्टिफिकेट

सोशल मीडिया पर साइबर दोस्‍त की ओर से बताया गया है कि कोविड 19 वैक्‍सीनेशन सर्टिफिकेट में आपका नाम और अन्‍य निजी जानकारी होती है। वैक्‍सीनेशन सर्टिफिकेट को इंटरनेट मीडिया पर शेयर करने से बचें, नहीं तो साइबर अपराधी आपको ठगने के लिए इसका दुरुपयोग कर सकते हैं। देश में कोरोना की रोकथाम के लिए फिलहाल दो वैक्‍सीन कोविशिल्‍ड और कोवैक्‍सीन उपलब्‍ध हैं।

फाइजर की वैक्सीन को मिली मंजूरी, 12-15 साल के बच्चों को भी लगेगा टीका

हो सकता है नुक्सान

वैक्‍सीन लेने के बाद लोगों को एक सर्टिफिकेट भी मिल रहा है। इसमें वैक्‍सीन लेने वाले का नाम, उम्र, लिंग, कौन सी वैक्‍सीन ली आदि-आदि लिखा रहता है। जरूरत पड़ने पर आप इस स‍र्टिफिकेट को दिखाकर बता सकते हैं कि आपने कोरोना से बचाव की वैक्‍सीन ली है। बता दें कि साइबर अपराधी आपकी निजी जानकारी चुराकर उसे डार्क नेट पर बेच देते हैं। इसके अलावा आपकी निजी जानकारी के आधार पर फर्जी कागजात तैयार कर उसका दुरुपयोग कर सकते हैं। इससे बैंक अकाउंट खोलवाना, सिम कार्ड लेना आदि कार्य किया जा सकता है।