अन्तरिक्ष से पृथ्वी का सम्पर्क अब मुश्किल में, हो गई है ये अनहोनी…

arecibo radar crack
arecibo radar crack

नई दिल्ली : अंतरिक्ष से हमें जो सूचना मिलती है, जिस माध्यम से मिलती है वो एंटीना अब टूट चुका है, दुनिया भर के वैज्ञानिक परेशान हैं कि अब धरती की तरफ अंतरिक्ष से आने वाले खतरों की जानकारी कौन देगा? ऐसे खतरों की जानकारी देने वाला दुनिया का सबसे बड़ा एंटीना टूट गया है. यह एंटीना जिन लोहे के केबलों से जुड़ा है वो भी टूट रहे हैं. अब इस एंटीना की रिपेयरिंग की जाएगी. इस एंटीना के ऊपर जेम्स बॉन्ड सीरीज की मूवी गोल्डन आई की शूटिंग भी हुई थी. आइए जानते हैं इस ताकतवर एंटीना के बारे में…

arecibo radar crack
arecibo radar crack

यह एंटीना अंतरिक्ष की गहराइयों से आने वाले खतरों जैसे एस्टेरॉयड्स, मेटियॉर्स आदि की जानकारी दुनिया भर के वैज्ञानिकों को देता है. यह एंटीना आर्सीबो ऑब्जरवेटरी (Arecibo Observatory) में लगा है. ये प्यूर्टो रिको में स्थित है. इसका संचालन एना जी मेंडेज यूनिवर्सिटी, नेशनल साइंस फाउंडेशन और यूनिवर्सिटी ऑफ फ्लोरिडा मिलकर करते हैं.

arecibo radar crack
arecibo radar crack

ऐसे करता है काम ये एंटीना-

इस ऑब्जरवेटरी में एक 1007 फीट तीन इंच व्यास का बड़ा गोलाकार एंटीना है. जो सुदूर अंतरिक्ष में होने वाली गतिविधियों को पकड़ता है. इसका मुख्य काम धरती की तरफ आ रही खगोलीय वस्तुओं के बारे में जानकारी देना है. 1007 फीट व्यास वाले एंटीना में 40 हजार एल्यूमिनियम के पैनल्स लगे हैं जो सिग्नल रिसीव करने में मदद करते हैं. इस एंटीना को आर्सीबो राडार कहते हैं. आर्सीबो ऑब्जरवेटरी को बनाने का आइडिया कॉर्नेल यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर विलियम ई गॉर्डन को आया था.

कब बना यह एंटीना-

इसका निर्माण कार्य 1960 में शुरू हुआ था. जो 1963 में पूरा हुआ. इस एंटीना के बीचो-बीच एक रिफलेक्टर है जो ब्रिज के जरिए लटका हुआ है. इस ऑब्जरवेटरी को बनने में तीन साल लगे. यहां ऐसे दो रिफलेक्टर्स हैं. पहला 365 फीट की ऊंचाई पर और दूसरा 265 फीट की ऊंचाई पर. सभी रिफलेक्टर्स को तीन ऊंचे और मजबूत कॉन्क्रीट से बने टावर से बांधा गया है. बांधने के लिए 3.25 इंच मोटे स्टील के तारों का उपयोग किया गया है. ऑर्सीबो राडार यानी एंटीना कुल 20 एकड़ क्षेत्रफल में फैला है. इसकी गहराई 167 फीट है.

एंटीना में हुआ है ये नुकसान-

इनमें से कुछ केबल टूट गए. जो केबल टूटे हैं उनपर 2.83 लाख किलोग्राम का वजन था. इसकी वजह से एंटीना के 100 फीट के हिस्से में छेद हो गया है. एल्यूमिनियम से बने एंटीना का बड़ा हिस्सा टूटकर जमीन पर गिर चुका है. आपको बता दें कि इस एंटीना की मदद से दुनिया भर के करीब 250 साइंटिस्ट अंतरिक्ष पर नजर रखते हैं.

Leave a comment

Your email address will not be published.