Allahabad HC: नाबालिग पति बालिग पत्नी के साथ नहीं रह सकता, इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसला

Allahabad HC

नई दिल्ली: इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad HC )ने एक अहम फैसला सुनाते हुए कहा कि अगर पति नाबालिग है तो वो कानूनी रूप से अपनी बालिग पत्नी के साथ नहीं रह सकता है. जब तक कि वह बालिग न हो जाए। कोर्ट ने ऐसे विवाह को शून्य माना है, जिसमें पति या पत्नी में से कोई एक नाबालिग है. कोर्ट ने अपने आदेश कहा कि नाबालिग पति को उसकी बालिग पत्नी को सौंपना पॉक्सो एक्ट के तहत अपराध होगा. इसलिए जब तक पति बालिग नहीं हो जाता तब तक वो आश्रय स्थल में ही रहेगा.

नाबालिग

 

राम मंदिर जमीन विवाद पर ट्रस्ट ने केंद्र और RSS को भेजी रिपोर्ट, बताया- 18 करोड़ की क्यों ली जमीन 

16 साल का पति अपनी मां के साथ भी रहना नहीं चाहता है। इसलिए कोर्ट ने मां को भी उसकी अभिरक्षा नही सौपी और जिला प्रशासन को चार फरवरी 2022  (लड़के के बालिग होने तक ) उसे सारी सुविधाओं के साथ आश्रय स्थल में रखने का निर्देश दिया है। कोर्ट से साफ किया है का चार फरवरी 2022 को बालिग होने के बाद वह अपनी मर्जी से कहीं भी किसी के साथ जाने के लिए स्वतंत्र होगा। तब तक आश्रय स्थल में रहेगा.

यह आदेश न्यायमूर्ति जेजे मुनीर ने लड़के की मां आजमगढ की हौशिला देवी की याचिका पर दिया है। दरअसल, याचिका में मां ने अपने नाबालिग बेटे की अभिरक्षा की मांग की थी। नाबालिग की मां का कहना था कि नाबालिग लड़के को  किसी लड़की से शादी करने का विधिक अधिकार नहीं है। ऐसी शादी कानूनन अमान्य है। जिसके बाद कोर्ट के निर्देश पर लड़के को 18 सितंबर 2020 को कोर्ट में पेश किया गया था। बयान से साफ हुआ कि वह जबरन पत्नी के साथ रह रहा है। पत्नी से बच्चे का जन्म भी हुआ है। कोर्ट ने कहा कि वह नाबालिग है, पत्नी की अभिरक्षा में नहीं रह सकता। बच्चे का हित देखा जाएगा। इसलिए बालिग होने तक सरकारी आश्रय स्थल में रहेगा।

https://www.youtube.com/watch?v=4Iwjqw3YbOM

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *