क्या आंदोलन से वापिस आकर पंजाब में कोरोना फैला रहे हैं किसान??

alandhar-city-ground-report-of-villages-of-punjab-returning-from-delhi-border-farmers-are-becoming-super-spreaders
alandhar-city-ground-report-of-villages-of-punjab-returning-from-delhi-border-farmers-are-becoming-super-spreaders

जालंधर : पंजाब के ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना के मरीजों की संख्या धीरे-धीरे बढ़ने लगी और मृत्यु दर 58 फीसद हो गई है। यहां संक्रमण का बड़ा कारण दिल्ली के बार्डर पर कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे आंदोलन से संक्रमित होकर लौटे किसान भी हैं जो कि सुपर स्प्रेडर बन रहे हैं। धरनों में न तो शारीरिक दूरी रखी जा रही है न ही मास्क आदि का इस्तेमाल किया जा रहा है। यही नहीं, बीमार होने पर किसान टेस्ट भी नहीं करवा रहे। लौट कर उनके संपर्क में आने वाले लोग भी संक्रमित हो रहे हैं।

alandhar-city-ground-report-of-villages-of-punjab-returning-from-delhi-border-farmers-are-becoming-super-spreaders
alandhar-city-ground-report-of-villages-of-punjab-returning-from-delhi-border-farmers-are-becoming-super-spreaders

पंजाब में हुई किसान महापंचायतों व धरने-प्रदर्शनों में शामिल किसानों की वजह से भी संक्रमण गांवों तक पहुंचा है।एक रिपोर्ट के अनुसार राज्य के सात जिलों तरनतारन, मुक्तसर साहिब, बरनाला, संगरूर, बठिंडा, मानसा व मोगा के करीब 19 गांवों में पड़ताल की जहां कोरोना के मामले बढ़े हैं। यह पाया गया कि इन गांवों से बड़ी संख्या में किसान दिल्ली आंदोलन व अन्य धरने-प्रदर्शनों में शामिल रहे हैं।

Covid19 : तीसरी लहर को लेकर एम्स निदेशक ने दी चेतावनी, बच्चों का रखें ख्याल

खुलकर नहीं बता रहे लोग

गांव के लोग यह खुलकर नहीं बताते कि जो कोरोना से मरे हैं या जो संक्रमित हैं उनमें कितने ऐसे किसान हैं जो धरनों में शामिल हुए हैं। फिर भी कुछ गांवों में पड़ताल करने पर स्थिति स्पष्ट होती है कि किसान संक्रमित होकर लौट रहे हैं। तरनतारन में 900 किसान दिल्ली धरने से लौटे हैं। इनमें से अब तक सात की कोरोना से मौत हो चुकी है। इनमें भिखीविंड, माणकपुरा व नारला में दो-दो, जबकि नौशहरा पन्नूआ में एक किसान शामिल हैॆ।

अधिकतर किसान पॉजिटिव

तरनतारन में माणकपुर गांव में बीस से अधिक लोग पाजिटिव आए हैं। इनमें सात टीकरी बार्डर पर धरना देकर लौटे हैं, जो अन्य पाजिटिव हैं उनमें भी ज्यादातर उन लोगों के संपर्क में रहे हैं, जो दिल्ली से लौटे हैं। इसी तरह श्री मुक्तसर साहिब के गांव आलमवाला में 40 कोरोना पाजिटिव हैं। इनमें दस ऐसे हैं, जो दिल्ली मोर्चे में शामिल हुए थे। अन्य तीस लोग गांव के ही हैं जो इनके जान-पहचान के हैं।

 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *