Covid19: घर पर करें यह काम तो जल्द हो जायेंगे ठीक, रेमडेसिविर की भी ज़रूरत नहीं

coronavirus-cases-decreased-in-major-metros-like-delhi-mumbai-lucknow-and-others-more-than-2-crore-people-beat-covid19 71224
coronavirus-cases-decreased-in-major-metros-like-delhi-mumbai-lucknow-and-others-more-than-2-crore-people-beat-covid19 71224

नई दिल्ली : Covid19 गुरुग्राम स्थित मेदांता अस्पताल के चेयरमैन डॉक्टर नरेश त्रेहान (Dr Naresh Trehan) ने कोरोना महामारी पर चर्चा करते हुए रविवार को कहा कि जैसे ही आपकी RT-PCR रिपोर्ट पॉजिटिव आती है, मेरी सलाह होगी कि आप अपने स्थानीय डॉक्टर से सलाह लें, जिसके साथ आप संपर्क में हैं। उन्होंने कहा कि सभी डॉक्टर प्रोटोकॉल जानते हैं और उसी के अनुसार आपका इलाज शुरू करेंगे।

aiims-director-dr-randeep-guleria-said-no-need-to-panic-of-covid-19
aiims-director-dr-randeep-guleria-said-no-need-to-panic-of-covid-19

साथ ही त्रेहान ने दावा किया कि यदि समय पर सही दवा दी जाए तो 90 फीसदी कोरोना मरीज घर पर ही ठीक हो सकते हैं। मेदांता अस्पताल के चेयमैन ने आगे कहा कि हमारे स्टील प्लांट की ऑक्सीजन की बहुत क्षमता है लेकिन उनको ट्रांसपोर्ट करने के लिए क्रायो टैंक की जरूरत होती है जिसकी तादाद इतनी नहीं थी। लेकिन सरकार ने आयात कर लिए हैं, उम्मीद है कि आने-वाले 5-7 दिन में स्थिति काबू में आ जाएगी।

न करें पैनिक हो जायेंगे ठीक

इसको लेकर एम्स निदेशक रणदीप गुलेरिया ने कहा कि कोरोनावायरस की मौजूदा स्थिति में जनता में पैनिक है, लोगों ने घर में इंजेक्शन, सिलेंडर रखने शुरू कर दिए हैं जिससे इनकी कमी हो रही है। कोविड-19 आम संक्रमण है, 85-90 फीसदी लोगों में ये आम बुखार, जुकाम होता है। इसमें ऑक्सीजन, रेमडेसिविर की जरूरत नहीं पड़ती है। उन्होंने आगे कहा कि कोविड-19 ज्यादातर सामान्य बिमारी है। ज्यादातर आप घर से योगा करके ही ठीक हो सकते हैं। यह माइल्ड बिमारी है। केवल 10-15 फीसदी ही सेवर हो सकती है। अगर सांस के रिलेटिड दिक्कत हो रही है तो तुरंत आक्सीजन लगाने की जरूरत नहीं है। आप पेट के बल लेट सकते हैं। ब्रीथिंग एक्सरसाइज करें, पेनिक न करें।

Corona Infection: सरसों नारियल का तेल नाक में डालने से भी बच सकते हैं संक्रमण से

वहीं, एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने कहा कि कोरोना वायरस की मौजूदा स्थिति में जनता में पैनिक है, लोगों ने घर में इंजेक्शन, सिलेंडर रखने शुरू कर दिए हैं जिससे इनकी कमी हो रही है। उन्होंने कहा कि COVID19 आम संक्रमण है, 85 से 90 फीसदी लोगों में ये आम बुखार, जुकाम होता है इसमें ऑक्सीजन, रेमडेसिविर की जरूरत नहीं पड़ती है।

रेमडेसिविर की ज़रूरत नहीं

गुलेरिया ने आगे कहा कि जो मरीज घर हैं और जिनका ऑक्सीजन सेचुरेशन 94 से ज्यादा है उन्हें रेमडेसिविर की कोई जरूरत नहीं है और अगर आम रेमडेसिविर लेते हैं तो उससे आपको नुकसान ज़्यादा हो सकता है, फायदा कम होगा। स्वास्थ्य सेवाओं के महानिदेशक डॉ. सुनील कुमार ने कहा कि इस साल संक्रमण के फैलने के दो मुख्य कारण हैं, एक तो हम कोविड उपयुक्त व्यवहार को भूल गए और हमने वैक्सीन को अपनाया नहीं। वैक्सीन संक्रमण की चेन को तोड़ेगी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *