टिड्डी दल के हमले को लेकर प्रशासन ने जारी किया अलर्ट, किसानों को दी सलाह

varanasi administration
varanasi administration

नई दिल्लीः टिड्डी दल पिछले साल भी देश के कई राज्यों में तबाही मचा चूका है, और इस बार भी पाकिस्तान की ओर से टिड्डियों के संभावित हमले को देखते हुए प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है। किसानों को सलाह दी गई है कि वे चौकन्ने रहें और टिड्डी दल को देखते ही सूचित करें तथा उन्हें भगाने व उनसे फसल की सुरक्षा के उपायों में लग जाएं। जिला प्रशासन ने भी कंट्रोल रूम स्थापित कर हेल्पलाइन नंबर जारी दिए है।

कोरोना के बीच दिल्ली में अब डेंगू-चिकनगुनिया का खतरा, टूटा 8 साल का रिकॉर्ड

टिडि्डयों का जमावड़ा

बता दें की संयुक्त राष्ट्र के खाद्य एवं कृषि संगठन ने पूर्वानुमान के आधार पर राजस्थान में टिड्डी दलों के आक्रमण की संभावना जताई है। राजस्थान की पश्चिमी सीमा वाले इलाकों में काफी संख्या में टिडि्डयों का जमावड़ा होने की बात की बात कही गई है। इस आधार पर संगठन ने राजस्थान सहित भारत के अन्य राज्यों में भी इस टिड्डी दल के हमले को लेकर संभावना जताई है। यह संदेश मिलते ही जिला प्रशासन व कृषि विभाग चौकन्ना हो गया है।

कोरोना मरीजों को बड़ी राहत, बाल फार्मा ने लांच की एंटी वायरल दवा Favipiravir

किसानों के लिए सलाह

  • टिड्डी दल के प्रकोप की दशा में एक साथ इकट्ठा होकर टिन के डिब्बों, थालियों, ढोल नगाड़ों तथा ध्वनि विस्तारक यंत्रों को बजाते हुए शोर मचाएं।
  • भोर के समय खेतों में आग जलाकर, पटाखे फोड़कर तथा ट्रैक्टर के साइलेंसर को निकाल कर भी तेज ध्वनि की जा सकती है।
  • टिड्डी दल बलुई मिट्टी में प्रजनन के लिए अंडे देते हैं। इसलिए किसानों को चाहिए कि दल के आक्रमण की संभावना को देखते हुए ऐसी मिट्टी वाले क्षेत्रों में जुताई करवा दें तथा पानी भरवा दें।

कोरोना टेस्टिंग के लिए Cipla ने लॉन्च की RT-PCR टेस्ट किट, आज से ही उपलब्ध

हेल्पलाइन नंबर जारी

राजस्थान जिला कृषि अधिकारी सुभाष चंद्र मौर्य ने बताया कि टिड्डी दल पर हमले की स्थिति में तत्काल जिम्मेदार या गांव के किसान जिला मुख्यालय के कंट्रोल रूम के फोन नंबर 9450408872 या 0542-2503302 अथवा 9044779391 पर सूचित करें। जिला प्रशासन ने जनपद के किसी इलाके में टिड्डी दलों का हमला होने की स्थिति में तत्काल सूचित करने को कहा है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *