कोरोना संक्रमित 90 प्रतिशत लोगों को नहीं हो सकता ब्लैक फंगस

black fungus
black fungus

नई दिल्लीः एक्सपर्ट्स के मुताबिक कोरोना संक्रमित 90 फीसद लोगों को ब्लैक फंगस होने की आशंका नहीं है.संजय गांधी पीजीआइ के एनेस्थीसिया विभाग के प्रोफेसर एवं आइसीयू एक्सपर्ट प्रो. संदीप साहू के मुताबिक ब्लैक फंगस (म्यूकर माइकोसिस) को लेकर लोगों में काफी दहशत है। ऐसा कोई मामला नहीं है जो होम आइसोलेशन में कोरोना संक्रमण के हल्के मामले रहे हों

इस ऐप के जरिए अब घर पर ही कर सकेंगे कोरोना जांच, जानें विस्तार से

ब्लैक फंगस मामले

प्रो. संदीप बताते है कि जो लोग आक्सीजन और लो डोज स्टेरायड पर रहे हों उनमें भी इस तरह के मामले नहीं हुए। पूरे भारत में कुल एक हजार मामले ब्लैक फंगस के सामने आए। देखा जाए भर्ती होने वाले लाखों मरीजों में यह प्रतिशत 0.001 भी नहीं होगा। ब्लैक फंगस के केवल वही शिकार हुए जो गंभीर कोरोना संक्रमित थे। एक्यूट रेस्पिरेटरी ङ्क्षसड्रोम के कारण आइसीयू में भर्ती कर हाई डोज स्टेरायड दिया गया, शुगर नियंत्रित नहीं रहा।

कोरोना संकट के बीच अब ISRO ने बनाए स्वदेशी ऑक्सीजन कंसंट्रेटर

इम्यून सिस्टम कमजोर

साथ ही वो कोरोना संक्रमित जिसमें वेंटिलेटर या एनवाई, बाईपैप थेरेपी की जरूरत पड़ी। इसके साथ ऐसे मरीज पहले से इम्यूसप्रेसिव दवा पर चल रहे थे, किडनी ट्रांसप्लांट, कैंसर, आटो इम्यून डिजीज से ग्रस्त थे। इन लोगों में पहले से ही इम्यूनो सप्रेसिव दवाएं चलती हैं, जिससे उनका इम्यून सिस्टम कमजोर होता है। आइसीयू में भर्ती के दौरान हाई डोज स्टेरायड देने से उनका इम्यून सिस्टम और कमजोर हो जाता है।

 

Leave a comment

Your email address will not be published.