Oxford में पढ़े 41 वर्षीय व्यक्ति ने नौकरी न मिलने पर अपने ही मां-बाप पर किया केस

Oxford
Oxford

नई दिल्ली: Oxford लंदन से एक कलयुगी बेटे की चकित कर देने वाली खबर सामने आई है। बात कुछ ऐसी थी की यहां 41 साल के एक शख्स ने अपने माता-पिता से पूरी जिंदगी उसका खर्चा उठाने की मांग करते हुए उन पर केस कर दिया है। इससे भी ज्यादा हैरान करने वाली बात यह है कि फैज सिद्दीकी नाम के इस शख्स ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से कानून की पढ़ाई की है और वह एक ट्रेंड लॉयर है। इतना पढ़ा-लिखा होने के बावजूद वह बेरोजगारी का हवाला देकर अपने माता-पिता को संभालने के बजाय उल्टा उनसे ही जिंदगीभर रुपये देने की मांग कर रहा है।

INTERNATIONAL NEWS
फैज सिद्दीकी

Oxford: माता-पिता खिलाफ केस

ये भी बताया जारा है की फैज का कहना है कि वह बीते 10 सालों से बेरोजगार है और हाई कोर्ट में उसने दलील दी है कि वह सेहत की परेशानियों के चलते कमजोर वयस्क बच्चे के रूप में गुजारे का दावा करने का हकदार है। उसे रोकना उसके मानवाधिकारों का उल्लंघन होगा। आपको बता दें 71 साल के जावेद और 69 साल की रक्षंदा फैज के माता-पिता हैं। वह दुबई में रहते हैं। उनके वकील ने हाई कोर्ट में कहा कि फैज के माता-पिता पहले ही उसे ऑक्सफोर्ड जैसी प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी  में पढ़ा चुके हैं। इसके अलावा उन्होंने फैज को 20 साल पहले ही सेंट्रल लंदन के हाइड पार्क में एक घर खरीदकर दे रखा है, जिसकी कीमत करीब 10 करोड़ रुपये है।

 

INTERNATIONAL NEWS
Oxford

अच्छी नौकरी नहीं मिल पाई

फैज सिद्दीकी ने अपने माता-पिता से ताउम्र भरण-पोषण के लिए खर्चा देने की मांग करने की वजह बताई है। उसका कहना है कि उसने काफी कोशिश की, लेकिन कोई अच्छी नौकरी नहीं मिल पाई। ऐसे में माता-पिता के अलावा उसका कोई सहारा नहीं है और उन्हें ही उसकी पूरी जिम्मेदारी उठानी होगी।

कांग्रेस का चुनाव प्रचार मात्र 1 ₹ में संभालेंगे प्रशांत किशोर, लेकिन होंगी यह 5 चुनौतियां

ऑक्सफोर्ड में पढ़ाई का स्तर अच्छा नहीं

जानकारी मिली है कि इसके पहले साल 2018 में फैज ने अपनी कमजोर मानसिक सेहत का हवाला देते हुए ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के खिलाफ भी एक केस कर दिया था। उसने ऑक्सफोर्ड से 10 करोड़ रुपये का हर्जाना मांगा था। उसका दावा था कि ऑक्सफोर्ड में पढ़ाई का स्तर अच्छा नहीं था, जिसके चलते एक प्रतिष्ठित अमेरिकी लॉ कॉलेज में उसका एडमिशन नहीं हो सका। हालांकि, फैज द्वारा दायर इस मुकदमे को भी लंदन की एक निचली अदालत ने खारिज कर दिया था।

भारतीय नौसेना में शामिल हो चुकी है, देश की सबसे घातक अदृश्य पनडुब्बी

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *