सुप्रीम कोर्ट करेगा बंगाल सामूहिक दुष्कर्म पीड़िताओं की सुनवाई

Supreme Court
Supreme Court

नई दिल्ली : (सुप्रीम कोर्ट) बंगाल में चुनाव बाद हुई हिंसा के दौरान सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया है । वहीं पीड़िताओं ने न्याय के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। इन पीड़िताओं में एक 17 वर्ष की नाबालिग है और दूसरी 60 वर्ष की बुजुर्ग। अपने साथ हुई हैवानियत का ब्योरा देते हुए पीड़िताओं ने कोर्ट से बंगाल चुनाव के बाद हुई हिंसा के लंबित मामले में पक्षकार बनाए जाने और उनके मामलों की जांच एसआइटी या किसी स्वतंत्र एजेंसी से कराने की मांग की है। एक अर्जी में मुकदमे का ट्रायल बंगाल से बाहर स्थानांतरित करने की भी मांग है।

सुप्रीम कोर्ट ने पहले भी बंगाल सरकार को किया नोटिस जारी

वहीं मतदान के बाद तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) कार्यकर्ताओं और समर्थकों द्वारा भाजपा व अन्य विरोधी पार्टी के समर्थकों पर की गई हिंसा में मारे गए दो भाजपा कार्यकर्ताओं के परिजनों की सुप्रीम कोर्ट में याचिकाएं लंबित हैं। इन पर कोर्ट पहले ही बंगाल सरकार को नोटिस जारी कर चुका है। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को सुनवाई होनी है।

यह भी पढ़ेअयोध्या : राम मंदिर निर्माण में घोटाले का आरोप, पूर्व मंत्री का सवाल- 2 करोड़ की जमीन 10 मिनट में 18.5 करोड़ की कैसे हुई

सामुहिक दुष्कर्म की शिकार महिला नें लगाई अर्जी, 17 वर्षीय नाबालिग के साथ भी किया दुष्कर्म

सामूहिक दुष्कर्म की शिकार 60 वर्षीय महिला ने अर्जी में कहा है कि पांच मई, 2021 की रात को सत्ताधारी दल टीएमसी के समर्थकों ने उसके घर पर हमला किया और उसके छह वर्षीय पोते के सामने पांच लोगों ने उसके साथ दुष्कर्म किया।

TMC
TMC

सुप्रिम कोर्ट में अर्जी लगाते हुए पीड़िता नें कही कि पुलिस नें इस मामले में कोई सहयोग नहीं किया। साथ ही दूसरी अर्जी 17 वर्षीय नाबालिग की ओर से दाखिल की गई है। इसमें कहा गया है कि वह 9 मई, 2021 को नजदीकी गांव में रहने वाली अपनी दादी से मिलकर सहेली के साथ लौट रही थी।

उसे चार लड़कों ने रोक लिया और कहा कि अब इसे भाजपा का समर्थन करने का सबक सिखाएंगे। हमलावरों ने उसे जंगल में ले जाकर सामूहिक दुष्कर्म किया। पीड़िता ने कहा है कि वह अनुसूचित जाति की है। दोनों अर्जियों में पीड़िताओं ने खुद की और परिवार वालों की सुरक्षा मांगी है। नाबालिग पीड़िता ने मुकदमे का ट्रायल बंगाल से बाहर स्थानांतरित करने की मांग भी की है।